khuda gar mere haathon mein dilaase ki chilam bharta | ख़ुदा गर मेरे हाथों में दिलासे की चिलम भरता - Ashu Mishra

khuda gar mere haathon mein dilaase ki chilam bharta
main ahl-e-hijr ke thande pade seenon mein dam bharta

agar mujh ko kisi ke husn ka mausam na raas aata
main dil ke saare khaanon mein tiri furqat ke gham bharta

musavvir main haseen lagta tire sab shaahkaaron se
tu mujh mein rang to bharta bhale auron se kam bharta

bahut thak kar sawaal-e-wasl us se kar diya main ne
main kab tak dekha-dekhi se mohabbat ka shikam bharta

ख़ुदा गर मेरे हाथों में दिलासे की चिलम भरता
मैं अहल-ए-हिज्र के ठंडे पड़े सीनों में दम भरता

अगर मुझ को किसी के हुस्न का मौसम न रास आता
मैं दिल के सारे ख़ानों में तिरी फ़ुर्क़त के ग़म भरता

मुसव्विर मैं हसीं लगता तिरे सब शाहकारों से
तू मुझ में रंग तो भरता भले औरों से कम भरता

बहुत थक कर सवाल-ए-वस्ल उस से कर दिया मैं ने
मैं कब तक देखा-देखी से मोहब्बत का शिकम भरता

- Ashu Mishra
1 Like

Gham Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ashu Mishra

As you were reading Shayari by Ashu Mishra

Similar Writers

our suggestion based on Ashu Mishra

Similar Moods

As you were reading Gham Shayari Shayari