ai zindagi ye kya hua tu hi bata thoda-bahut | ऐ ज़िंदगी ये क्या हुआ तू ही बता थोड़ा-बहुत - Aziz Nabeel

ai zindagi ye kya hua tu hi bata thoda-bahut
vo bhi naaraz hai main bhi khafa thoda-bahut

manzil hamaari kya hui ye kis jahaan mein aa gaye
ab sochna pesha hua kehna raha thoda-bahut

na-mehrbann har raasta aur bewafa ik-ik gali
ham kho gaye is shehar mein rasta mila thoda-bahut

ye lutf mujh par kislie ehsaan ka kya faayda
ab waqt saara kat chuka achha-bura thoda-bahut

us bazm se baawastagi kya-kya dikhaayegi nabeel
phir aa gaye tum haar kar jo kuchh bhi tha thoda-bahut

ऐ ज़िंदगी ये क्या हुआ तू ही बता थोड़ा-बहुत
वो भी नाराज़ है मैं भी ख़फ़ा थोड़ा-बहुत

मंज़िल हमारी क्या हुई ये किस जहां में आ गए
अब सोचना पेशा हुआ कहना रहा थोड़ा-बहुत

ना-मेहरबां हर रास्ता और बेवफ़ा इक-इक गली
हम खो गए इस शहर में रस्ता मिला थोड़ा-बहुत

ये लुत्फ़ मुझ पर किसलिए एहसान का क्या फ़ायदा
अब वक़्त सारा कट चुका, अच्छा-बुरा, थोड़ा-बहुत

उस बज़्म से बावस्तगी क्या-क्या दिखाएगी नबील
फिर आ गए तुम हार कर जो कुछ भी था थोड़ा-बहुत

- Aziz Nabeel
1 Like

Life Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Aziz Nabeel

As you were reading Shayari by Aziz Nabeel

Similar Writers

our suggestion based on Aziz Nabeel

Similar Moods

As you were reading Life Shayari Shayari