hayaat-o-kaaynaat par kitaab likh rahe the ham | हयात-ओ-काएनात पर किताब लिख रहे थे हम - Aziz Nabeel

hayaat-o-kaaynaat par kitaab likh rahe the ham
jahaan jahaan savaab tha azaab likh rahe the ham

hamaari tishnagi ka gham raqam tha mauj mauj par
samundron ke jism par saraab likh rahe the ham

sawaal tha ki justuju azeem hai ki aarzoo
so yun hua ki umr bhar jawaab likh rahe the ham

sulagte dasht ret aur babool the har ek soo
nagar nagar gali gali gulaab likh rahe the ham

zameen ruk ke chal padi charaagh bujh ke jal gaye
ki jab adhoore khwaabon ka hisaab likh rahe the ham

mujhe bataana zindagi vo kaun si ghadi thi jab
khud apne apne vaaste azaab likh rahe the ham

chamak utha har ek pal mahak uthe qalam davaat
kisi ke naam dil ka intisaab likh rahe the ham

हयात-ओ-काएनात पर किताब लिख रहे थे हम
जहाँ जहाँ सवाब था अज़ाब लिख रहे थे हम

हमारी तिश्नगी का ग़म रक़म था मौज मौज पर
समुंदरों के जिस्म पर सराब लिख रहे थे हम

सवाल था कि जुस्तुजू अज़ीम है कि आरज़ू
सो यूँ हुआ कि उम्र भर जवाब लिख रहे थे हम

सुलगते दश्त, रेत और बबूल थे हर एक सू
नगर नगर, गली गली गुलाब लिख रहे थे हम

ज़मीन रुक के चल पड़ी, चराग़ बुझ के जल गए
कि जब अधूरे ख़्वाबों का हिसाब लिख रहे थे हम

मुझे बताना ज़िंदगी वो कौन सी घड़ी थी जब
ख़ुद अपने अपने वास्ते अज़ाब लिख रहे थे हम

चमक उठा हर एक पल, महक उठे क़लम दवात
किसी के नाम दिल का इंतिसाब लिख रहे थे हम

- Aziz Nabeel
0 Likes

Dard Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Aziz Nabeel

As you were reading Shayari by Aziz Nabeel

Similar Writers

our suggestion based on Aziz Nabeel

Similar Moods

As you were reading Dard Shayari Shayari