khaak chehre pe mal raha hoon main | ख़ाक चेहरे पे मल रहा हूँ मैं - Aziz Nabeel

khaak chehre pe mal raha hoon main
aasmaan se nikal raha hoon main

chupke chupke vo padh raha hai mujhe
dheere dheere badal raha hoon main

main ne suraj se dosti ki hai
shaam hote hi dhal raha hoon main

ek aatish-kada hai ye duniya
jis mein sadiyon se jal raha hoon main

raaston ne qabaayein si li hain
ab safar ko machal raha hoon main

ab meri justuju kare sehra
ab samundar pe chal raha hoon main

khwaab aankhon mein chubh rahe the nabeel
so ye aankhen badal raha hoon main

ख़ाक चेहरे पे मल रहा हूँ मैं
आसमाँ से निकल रहा हूँ मैं

चुपके चुपके वो पढ़ रहा है मुझे
धीरे धीरे बदल रहा हूँ मैं

मैं ने सूरज से दोस्ती की है
शाम होते ही ढल रहा हूँ मैं

एक आतिश-कदा है ये दुनिया
जिस में सदियों से जल रहा हूँ मैं

रास्तों ने क़बाएँ सी ली हैं
अब सफ़र को मचल रहा हूँ मैं

अब मिरी जुस्तुजू करे सहरा
अब समुंदर पे चल रहा हूँ मैं

ख़्वाब आँखों में चुभ रहे थे 'नबील'
सो ये आँखें बदल रहा हूँ मैं

- Aziz Nabeel
2 Likes

Azal Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Aziz Nabeel

As you were reading Shayari by Aziz Nabeel

Similar Writers

our suggestion based on Aziz Nabeel

Similar Moods

As you were reading Azal Shayari Shayari