zameen ki aankh se manzar koi utaarte hain | ज़मीं की आँख से मंज़र कोई उतारते हैं - Aziz Nabeel

zameen ki aankh se manzar koi utaarte hain
hawa ka aks chalo ret par ubhaarte hain

khud apne hone ka inkaar kar chuke hain ham
hamaari zindagi ab doosre guzaarte hain

tumhaari jeet ka tum ko yaqeen aa jaaye
so ham tumhaare liye baar baar haarte hain

talash hai hamein kuchh gum-shuda bahaaron ki
guzar chuke hain jo mausam unhen pukaarte hain

chamak rahe hain mere khema-e-sukhan har-soo
hareef dekhiye shab-khoon kaise maarte hain

ye kaisi hairaten darpaish hain azeez-'nabeel
zara theharte hain aaseb-e-jaan utaarte hain

ज़मीं की आँख से मंज़र कोई उतारते हैं
हवा का अक्स चलो रेत पर उभारते हैं

ख़ुद अपने होने का इंकार कर चुके हैं हम
हमारी ज़िंदगी अब दूसरे गुज़ारते हैं

तुम्हारी जीत का तुम को यक़ीन आ जाए
सो हम तुम्हारे लिए बार बार हारते हैं

तलाश है हमें कुछ गुम-शुदा बहारों की
गुज़र चुके हैं जो मौसम उन्हें पुकारते हैं

चमक रहे हैं मिरे ख़ेमा-ए-सुख़न हर-सू
हरीफ़ देखिए शब-ख़ून कैसे मारते हैं

ये कैसी हैरतें दरपेश हैं अज़ीज़-'नबील'
ज़रा ठहरते हैं आसेब-ए-जाँ उतारते हैं

- Aziz Nabeel
1 Like

Nature Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Aziz Nabeel

As you were reading Shayari by Aziz Nabeel

Similar Writers

our suggestion based on Aziz Nabeel

Similar Moods

As you were reading Nature Shayari Shayari