tukde nahin hain aansuon mein dil ke chaar paanch | टुकड़े नहीं हैं आँसुओं में दिल के चार पाँच - Bahadur Shah Zafar

tukde nahin hain aansuon mein dil ke chaar paanch
surkhaab baithe paani mein hain mil ke chaar paanch

munh khole hain ye zakham jo bismil ke chaar paanch
phir lenge bose khanjar-e-qaatil ke chaar paanch

kehne hain matlab un se hamein dil ke chaar paanch
kya kahiye ek munh hain wahan mil ke chaar paanch

dariya mein gir pada jo mera ashk ek garm
but-khaane lab pe ho gaye saahil ke chaar paanch

do-chaar laashe ab bhi pade tere dar pe hain
aur aage dab chuke hain tale gil ke chaar paanch

raahen hain do majaaz o haqeeqat hai jin ka naam
raaste nahin hain ishq ki manzil ke chaar paanch

ranj o taab museebat o gham yaas o dard o daagh
aah o fugaan rafeeq hain ye dil ke chaar paanch

do teen jhatke doon jun hi vehshat ke zor mein
zindaan mein tukde hovein silaasil ke chaar paanch

farhaad o qais o waamik o azraa the chaar dost
ab ham bhi aa mile to hue mil ke chaar paanch

naaz o ada o ghamza nigaah panja-e-miza
maarein hain ek dil ko ye pil pil ke chaar paanch

eemaa hai ye ki devenge nau din ke baad dil
likh bheje khat mein she'r jo be-dil ke chaar paanch

heere ke nau-ratan nahin tere hue hain jama
ye chaandni ke phool magar khil ke chaar paanch

meena-e-nuh-falak hai kahaan baada-e-nashaat
sheeshe hain ye to zahar-e-halaahal ke chaar paanch

nakhun karein hain zakhamon ko do do mila ke ek
the aath das so ho gaye ab chil ke chaar paanch

gar anjum-e-falak se bhi taadaad kijie
niklen ziyaada daagh mere dil ke chaar paanch

maarein jo sar pe sil ko utha kar qalq se ham
das paanch tukde sar ke hon aur sil ke chaar paanch

maan ai zafar tu panj-tan o chaar-yaar ko
hain sadr-e-deen ki yahi mehfil ke chaar paanch

टुकड़े नहीं हैं आँसुओं में दिल के चार पाँच
सुरख़ाब बैठे पानी में हैं मिल के चार पाँच

मुँह खोले हैं ये ज़ख़्म जो बिस्मिल के चार पाँच
फिर लेंगे बोसे ख़ंजर-ए-क़ातिल के चार पाँच

कहने हैं मतलब उन से हमें दिल के चार पाँच
क्या कहिए एक मुँह हैं वहाँ मिल के चार पाँच

दरिया में गिर पड़ा जो मिरा अश्क एक गर्म
बुत-ख़ाने लब पे हो गए साहिल के चार पाँच

दो-चार लाशे अब भी पड़े तेरे दर पे हैं
और आगे दब चुके हैं तले गिल के चार पाँच

राहें हैं दो मजाज़ ओ हक़ीक़त है जिन का नाम
रस्ते नहीं हैं इश्क़ की मंज़िल के चार पाँच

रंज ओ ताब मुसीबत ओ ग़म यास ओ दर्द ओ दाग़
आह ओ फ़ुग़ाँ रफ़ीक़ हैं ये दिल के चार पाँच

दो तीन झटके दूँ जूँ ही वहशत के ज़ोर में
ज़िंदाँ में टुकड़े होवें सलासिल के चार पाँच

फ़रहाद ओ क़ैस ओ वामिक़ ओ अज़रा थे चार दोस्त
अब हम भी आ मिले तो हुए मिल के चार पाँच

नाज़ ओ अदा ओ ग़म्ज़ा निगह पंजा-ए-मिज़ा
मारें हैं एक दिल को ये पिल पिल के चार पाँच

ईमा है ये कि देवेंगे नौ दिन के बाद दिल
लिख भेजे ख़त में शे'र जो बे-दिल के चार पाँच

हीरे के नौ-रतन नहीं तेरे हुए हैं जमा
ये चाँदनी के फूल मगर खिल के चार पाँच

मीना-ए-नुह-फ़लक है कहाँ बादा-ए-नशात
शीशे हैं ये तो ज़हर-ए-हलाहल के चार पाँच

नाख़ुन करें हैं ज़ख़्मों को दो दो मिला के एक
थे आठ दस सो हो गए अब छिल के चार पाँच

गर अंजुम-ए-फ़लक से भी तादाद कीजिए
निकलें ज़ियादा दाग़ मिरे दिल के चार पाँच

मारें जो सर पे सिल को उठा कर क़लक़ से हम
दस पाँच टुकड़े सर के हों और सिल के चार पाँच

मान ऐ 'ज़फ़र' तू पंज-तन ओ चार-यार को
हैं सदर-ए-दीन की यही महफ़िल के चार पाँच

- Bahadur Shah Zafar
0 Likes

Wahshat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bahadur Shah Zafar

As you were reading Shayari by Bahadur Shah Zafar

Similar Writers

our suggestion based on Bahadur Shah Zafar

Similar Moods

As you were reading Wahshat Shayari Shayari