vo sau sau athkhaton se ghar se baahar do qadam nikle | वो सौ सौ अठखटों से घर से बाहर दो क़दम निकले - Bahadur Shah Zafar

vo sau sau athkhaton se ghar se baahar do qadam nikle
bala se us ki gar us mein kisi muztar ka dam nikle

kahaan aansu ke qatre khoon-e-dil se hain bahm nikle
ye dil mein jam'a the muddat se kuchh paikaan-e-gham nikle

mere mazmoon-e-soz-e-dil se khat sab jal gaya mera
qalam se harf jo nikle sharar hi yak-qalam nikle

nikaal ai chaaragar tu shauq se lekin sar-e-paikaan
udhar nikle jigar se teer udhar qaaleb se dam nikle

tasavvur se lab-e-laaleen ke tere ham agar ro den
to jo lakht-e-jigar aankhon se nikle ik raqam nikle

nahin darte agar hon laakh zindaan yaar zindaan se
junoon ab to misaal-e-naala-e-zanjeer ham nikle

jigar par daagh lab par dood-e-dil aur ashk daaman mein
tiri mehfil se ham maanind-e-sham'a subh-dam nikle

agar hota zamaana gesu-e-shab-rang ka tere
meri shab-deez sauda ka ziyaada-tar qadam nikle

kajee jin ki tabeeyat mein hai kab hoti vo seedhi hai
kaho shaakh-e-gul-e-tasveer se kis tarah kham nikle

shumaar ik shab kiya ham ne jo apne dil ke daaghoon se
to anjum charkh-e-hashtum ke bahut se un se kam nikle

khuda ke vaaste zaahid utha parda na kaabe ka
kahi aisa na ho yaa bhi wahi kaafir-sanam nikle

tamannaa hai ye dil mein jab talak hai dam mein dam apne
zafar munh se hamaare naam us ka dam-b-dam nikle

वो सौ सौ अठखटों से घर से बाहर दो क़दम निकले
बला से उस की गर उस में किसी मुज़्तर का दम निकले

कहाँ आँसू के क़तरे ख़ून-ए-दिल से हैं बहम निकले
ये दिल में जम्अ थे मुद्दत से कुछ पैकान-ए-ग़म निकले

मिरे मज़मून-ए-सोज़-ए-दिल से ख़त सब जल गया मेरा
क़लम से हर्फ़ जो निकले शरर ही यक-क़लम निकले

निकाल ऐ चारागर तू शौक़ से लेकिन सर-ए-पैकाँ
उधर निकले जिगर से तीर उधर क़ालिब से दम निकले

तसव्वुर से लब-ए-लालीं के तेरे हम अगर रो दें
तो जो लख़्त-ए-जिगर आँखों से निकले इक रक़म निकले

नहीं डरते अगर हों लाख ज़िंदाँ यार ज़िंदाँ से
जुनून अब तो मिसाल-ए-नाला-ए-ज़ंजीर हम निकले

जिगर पर दाग़ लब पर दूद-ए-दिल और अश्क दामन में
तिरी महफ़िल से हम मानिंद-ए-शम्अ सुब्ह-दम निकले

अगर होता ज़माना गेसु-ए-शब-रंग का तेरे
मिरी शब-दीज़ सौदा का ज़ियादा-तर क़दम निकले

कजी जिन की तबीअत में है कब होती वो सीधी है
कहो शाख़-ए-गुल-ए-तस्वीर से किस तरह ख़म निकले

शुमार इक शब किया हम ने जो अपने दिल के दाग़ों से
तो अंजुम चर्ख़-ए-हशतुम के बहुत से उन से कम निकले

ख़ुदा के वास्ते ज़ाहिद उठा पर्दा न काबे का
कहीं ऐसा न हो याँ भी वही काफ़िर-सनम निकले

तमन्ना है ये दिल में जब तलक है दम में दम अपने
'ज़फ़र' मुँह से हमारे नाम उस का दम-ब-दम निकले

- Bahadur Shah Zafar
0 Likes

Khat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bahadur Shah Zafar

As you were reading Shayari by Bahadur Shah Zafar

Similar Writers

our suggestion based on Bahadur Shah Zafar

Similar Moods

As you were reading Khat Shayari Shayari