na rizwan gham hai ne ishrat kabhi yun hai kabhi woon hai | न दाइम ग़म है ने इशरत कभी यूँ है कभी वूँ है - Bahadur Shah Zafar

na rizwan gham hai ne ishrat kabhi yun hai kabhi woon hai
tabaddul yaa hai har sa'at kabhi yun hai kabhi woon hai

garebaan-chaak hoon gahe udaata khaak hoon gahe
liye phirti mujhe vehshat kabhi yun hai kabhi woon hai

abhi hain vo mere hamdam abhi ho jaayenge dushman
nahin ik waz'a par sohbat kabhi yun hai kabhi woon hai

jo shakl-e-sheesha giryaa hoon to misl-e-jaam khandaan hoon
yahi hai yaa ki kaifiyyat kabhi yun hai kabhi woon hai

kisi waqt ashk hain jaari kisi waqt aah aur zaari
garz haal-e-gham-e-furqat kabhi yun hai kabhi woon hai

koi din hai bahaar-e-gul phir aakhir hai khizaan bilkul
chaman hai manzil-e-ibarat kabhi yun hai kabhi woon hai

zafar ik baat par rizwan vo hove kis tarah qaaim
jo apni pherta niyyat kabhi yun hai kabhi woon hai

न दाइम ग़म है ने इशरत कभी यूँ है कभी वूँ है
तबद्दुल याँ है हर साअ'त कभी यूँ है कभी वूँ है

गरेबाँ-चाक हूँ गाहे उड़ाता ख़ाक हूँ गाहे
लिए फिरती मुझे वहशत कभी यूँ है कभी वूँ है

अभी हैं वो मिरे हमदम अभी हो जाएँगे दुश्मन
नहीं इक वज़्अ पर सोहबत कभी यूँ है कभी वूँ है

जो शक्ल-ए-शीशा गिर्यां हूँ तो मिस्ल-ए-जाम ख़ंदाँ हूँ
यही है याँ की कैफ़िय्यत कभी यूँ है कभी वूँ है

किसी वक़्त अश्क हैं जारी किसी वक़्त आह और ज़ारी
ग़रज़ हाल-ए-ग़म-ए-फ़ुर्क़त कभी यूँ है कभी वूँ है

कोई दिन है बहार-ए-गुल फिर आख़िर है ख़िज़ाँ बिल्कुल
चमन है मंज़िल-ए-इबरत कभी यूँ है कभी वूँ है

'ज़फ़र' इक बात पर दाइम वो होवे किस तरह क़ाइम
जो अपनी फेरता निय्यत कभी यूँ है कभी वूँ है

- Bahadur Shah Zafar
0 Likes

Dushman Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bahadur Shah Zafar

As you were reading Shayari by Bahadur Shah Zafar

Similar Writers

our suggestion based on Bahadur Shah Zafar

Similar Moods

As you were reading Dushman Shayari Shayari