ishq to mushkil hai ai dil kaun kehta sahal hai | इश्क़ तो मुश्किल है ऐ दिल कौन कहता सहल है - Bahadur Shah Zafar

ishq to mushkil hai ai dil kaun kehta sahal hai
lek nadaani se apni tu ne samjha sahal hai

gar khule dil ki girah tujh se to ham jaanen tujhe
ai saba gunche ka uqda khol dena sahal hai

hamdamo dil ke lagaane mein kaho lagta hai kya
par chhudana is ka mushkil hai lagana sahal hai

garche mushkil hai bahut mera ilaaj-e-dard-e-dil
par jo tu chahe to ai rashk-e-masiha sahal hai

hai bahut dushwaar marna ye suna karte the ham
par judaai mein tiri ham ne jo dekha sahal hai

sham'a ne jal kar jalaya bazm mein parwaane ko
bin jale apne jalana kya kisi ka sahal hai

ishq ka rasta saraasar hai dam-e-shamsheer par
bul-hawas is raah mein rakhna qadam kya sahal hai

ai zafar kuchh ho sake to fikr kar uqba ka tu
kar na duniya ka tardudd kaar-e-duniya sahal hai

इश्क़ तो मुश्किल है ऐ दिल कौन कहता सहल है
लेक नादानी से अपनी तू ने समझा सहल है

गर खुले दिल की गिरह तुझ से तो हम जानें तुझे
ऐ सबा ग़ुंचे का उक़्दा खोल देना सहल है

हमदमो दिल के लगाने में कहो लगता है क्या
पर छुड़ाना इस का मुश्किल है लगाना सहल है

गरचे मुश्किल है बहुत मेरा इलाज-ए-दर्द-ए-दिल
पर जो तू चाहे तो ऐ रश्क-ए-मसीहा सहल है

है बहुत दुश्वार मरना ये सुना करते थे हम
पर जुदाई में तिरी हम ने जो देखा सहल है

शम्अ ने जल कर जलाया बज़्म में परवाने को
बिन जले अपने जलाना क्या किसी का सहल है

इश्क़ का रस्ता सरासर है दम-ए-शमशीर पर
बुल-हवस इस राह में रखना क़दम क्या सहल है

ऐ 'ज़फ़र' कुछ हो सके तो फ़िक्र कर उक़्बा का तू
कर न दुनिया का तरद्दुद कार-ए-दुनिया सहल है

- Bahadur Shah Zafar
0 Likes

Faasla Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bahadur Shah Zafar

As you were reading Shayari by Bahadur Shah Zafar

Similar Writers

our suggestion based on Bahadur Shah Zafar

Similar Moods

As you were reading Faasla Shayari Shayari