kya kahoon dil maail-e-zulf-e-dota kyunkar hua | क्या कहूँ दिल माइल-ए-ज़ुल्फ़-ए-दोता क्यूँकर हुआ - Bahadur Shah Zafar

kya kahoon dil maail-e-zulf-e-dota kyunkar hua
ye bhala changa giraftaar-e-bala kyunkar hua

jin ko mehrab-b-ibaadat ho kham-e-abroo-e-yaar
un ka kaabe mein kaho sajda ada kyunkar hua

deeda-e-hairaan hamaara tha tumhaare zer-e-paa
ham ko hairat hai ki paida naqsh-e-paa kyunkar hua

nama-bar khat de ke us nau-khat ko tu ne kya kaha
kya khata tujh se hui aur vo khafa kyunkar hua

khaaksaari kya ajab khove agar dil ka ghubaar
khaak se dekho ki aaina safa kyunkar hua

jin ko yaktaai ka da'wa tha vo misl-e-aaina
un ko hairat hai ki paida doosra kyunkar hua

tere daanton ke tasavvur se na tha gar aab-daar
jo baha aansu vo durr-e-be-baha kyunkar hua

jo na hona tha hua ham par tumhaare ishq mein
tum ne itna bhi na poocha kya hua kyunkar hua

vo to hai na-aashnaa mashhoor aalam mein zafar
par khuda jaane vo tujh se aashna kyunkar hua

क्या कहूँ दिल माइल-ए-ज़ुल्फ़-ए-दोता क्यूँकर हुआ
ये भला चंगा गिरफ़्तार-ए-बला क्यूँकर हुआ

जिन को मेहराब-ब-इबादत हो ख़म-ए-अबरू-ए-यार
उन का काबे में कहो सज्दा अदा क्यूँकर हुआ

दीदा-ए-हैराँ हमारा था तुम्हारे ज़ेर-ए-पा
हम को हैरत है कि पैदा नक़्श-ए-पा क्यूँकर हुआ

नामा-बर ख़त दे के उस नौ-ख़त को तू ने क्या कहा
क्या ख़ता तुझ से हुई और वो ख़फ़ा क्यूँकर हुआ

ख़ाकसारी क्या अजब खोवे अगर दिल का ग़ुबार
ख़ाक से देखो कि आईना सफ़ा क्यूँकर हुआ

जिन को यकताई का दा'वा था वो मिस्ल-ए-आईना
उन को हैरत है कि पैदा दूसरा क्यूँकर हुआ

तेरे दाँतों के तसव्वुर से न था गर आब-दार
जो बहा आँसू वो दुर्र-ए-बे-बहा क्यूँकर हुआ

जो न होना था हुआ हम पर तुम्हारे इश्क़ में
तुम ने इतना भी न पूछा क्या हुआ क्यूँकर हुआ

वो तो है ना-आश्ना मशहूर आलम में 'ज़फ़र'
पर ख़ुदा जाने वो तुझ से आश्ना क्यूँकर हुआ

- Bahadur Shah Zafar
0 Likes

Valentine Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bahadur Shah Zafar

As you were reading Shayari by Bahadur Shah Zafar

Similar Writers

our suggestion based on Bahadur Shah Zafar

Similar Moods

As you were reading Valentine Shayari Shayari