dekh dil ko mere o kaafir-e-be-peer na tod | देख दिल को मिरे ओ काफ़िर-ए-बे-पीर न तोड़ - Bahadur Shah Zafar

dekh dil ko mere o kaafir-e-be-peer na tod
ghar hai allah ka ye is ki to ta'aamir na tod

ghul sada vaadi-e-wahshat mein rakhoonga barpa
ai junoon dekh mere paanv ki zanjeer na tod

dekh tuk ghaur se aaina-e-dil ko mere
is mein aata hai nazar aalam-e-tasveer na tod

taaj-e-zar ke liye kyun sham'a ka sar kaate hai
rishta-e-ulft-e-parwaana ko gul-geer na tod

apne bismil se ye kehta tha dam-e-naz'a vo shokh
tha jo kuchh ahad so o aashiq-e-dil-geer na tod

raqs-e-bismil ka tamasha mujhe dikhla koi dam
dast o pa maar ke dam tu tah-e-shamsheer na tod

sahm kar ai zafar us shokh kamaan-daar se kah
kheench kar dekh mere seene se tu teer na tod

देख दिल को मिरे ओ काफ़िर-ए-बे-पीर न तोड़
घर है अल्लाह का ये इस की तो ता'मीर न तोड़

ग़ुल सदा वादी-ए-वहशत में रखूँगा बरपा
ऐ जुनूँ देख मिरे पाँव की ज़ंजीर न तोड़

देख टुक ग़ौर से आईना-ए-दिल को मेरे
इस में आता है नज़र आलम-ए-तस्वीर न तोड़

ताज-ए-ज़र के लिए क्यूँ शम्अ का सर काटे है
रिश्ता-ए-उल्फ़त-ए-परवाना को गुल-गीर न तोड़

अपने बिस्मिल से ये कहता था दम-ए-नज़अ वो शोख़
था जो कुछ अहद सो ओ आशिक़-ए-दिल-गीर न तोड़

रक़्स-ए-बिस्मिल का तमाशा मुझे दिखला कोई दम
दस्त ओ पा मार के दम तू तह-ए-शमशीर न तोड़

सहम कर ऐ 'ज़फ़र' उस शोख़ कमाँ-दार से कह
खींच कर देख मिरे सीने से तू तीर न तोड़

- Bahadur Shah Zafar
0 Likes

Wada Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bahadur Shah Zafar

As you were reading Shayari by Bahadur Shah Zafar

Similar Writers

our suggestion based on Bahadur Shah Zafar

Similar Moods

As you were reading Wada Shayari Shayari