jab kabhi dariya mein hote saaya-afgan aap hain | जब कभी दरिया में होते साया-अफ़गन आप हैं - Bahadur Shah Zafar

jab kabhi dariya mein hote saaya-afgan aap hain
fils-e-maahi ko bataate maah-e-raushan aap hain

seete hain sozan se chaak-e-seena kya ai chaarasaaz
khaar-e-gham seene mein apne misl-e-sozan aap hain

pyaar se kar ke hamaail gair ki gardan mein haath
maarte tegh-e-sitam se mujh ko gardan aap hain

kheench kar aankhon mein apni surma-e-dumbala-daar
karte paida seher se nargis mein sosan aap hain

dekh kar sehra mein mujh ko pehle ghabraaya tha qais
phir jo pahchaana to bola hazrat-e-man aap hain

jee dhadakta hai kahi taar-e-rag-e-gul chubh na jaaye
sej par phoolon ki karte qasd-e-khuftan aap hain

kya maza hai tegh-e-qaatil mein ki akshar said-e-ishq
aan kar us par ragadte apni gardan aap hain

mujh se tum kya poochte ho kaise hain ham kya kahein
jee hi jaane hai ki jaise mushfiq-e-man aap hain

pur-ghuroor o pur-takabbur pur-jafaa o pur-sitam
pur-fareb o pur-dagaa pur-makr o pur-fan aap hain

zulm-pesha zulm-sheva zulm-raan o zulm-dost
dushman-e-dil dushman-e-jaan dushman-e-tan aap hain

yakka-taaz o neza-baaz o arbadajoo tund-khoo
tegh-zan dashna-guzaar o naavak-afgan aap hain

tasma-kash taraaz o ghaarat-gar taaraaj-saaz
kaafir yaghmaai o qazzzaq rehzan aap hain

fitna-joo bedaad-gar saffaaq o azlam keena-var
garm-jang o garm-qatl o garm-kushtan aap hain

bad-mizaaj o bad-dimaagh wa bad-shi'aar o bad-sulook
bad-tareeq o bad-zabaan bad-ahd o bad-zan aap hain

be-muravvat bewafa na-mehrabaan na-aashnaa
mere qaateel mere haasid mere dushman aap hain

ai zafar kya paa-e-qaatil ke hai bose ki havas
yun jo bismil ho ke sargarm-e-tapeedan aap hain

जब कभी दरिया में होते साया-अफ़गन आप हैं
फ़िल्स-ए-माही को बताते माह-ए-रौशन आप हैं

सीते हैं सोज़न से चाक-ए-सीना क्या ऐ चारासाज़
ख़ार-ए-ग़म सीने में अपने मिस्ल-ए-सोज़न आप हैं

प्यार से कर के हमाइल ग़ैर की गर्दन में हाथ
मारते तेग़-ए-सितम से मुझ को गर्दन आप हैं

खींच कर आँखों में अपनी सुर्मा-ए-दुम्बाला-दार
करते पैदा सेहर से नर्गिस में सोसन आप हैं

देख कर सहरा में मुझ को पहले घबराया था क़ैस
फिर जो पहचाना तो बोला हज़रत-ए-मन आप हैं

जी धड़कता है कहीं तार-ए-रग-ए-गुल चुभ न जाए
सेज पर फूलों की करते क़स्द-ए-ख़ुफ़तन आप हैं

क्या मज़ा है तेग़-ए-क़ातिल में कि अक्सर सैद-ए-इश्क़
आन कर उस पर रगड़ते अपनी गर्दन आप हैं

मुझ से तुम क्या पूछते हो कैसे हैं हम क्या कहें
जी ही जाने है कि जैसे मुश्फ़िक़-ए-मन आप हैं

पुर-ग़ुरूर ओ पुर-तकब्बुर पुर-जफ़ा ओ पुर-सितम
पुर-फ़रेब ओ पुर-दग़ा पुर-मक्र ओ पुर-फ़न आप हैं

ज़ुल्म-पेशा ज़ु़ल्म-शेवा ज़ु़ल्म-रान ओ ज़ुल्म-दोस्त
दुश्मन-ए-दिल दुश्मन-ए-जाँ दुश्मन-ए-तन आप हैं

यक्का-ताज़ ओ नेज़ा-बाज़ ओ अरबदा-जू तुंद-ख़ू
तेग़-ज़न दश्ना-गुज़ार ओ नावक-अफ़गन आप हैं

तस्मा-कश तराज़ ओ ग़ारत-गर ताराज-साज़
काफ़िर यग़माई ओ क़ज़्ज़ाक़ रहज़न आप हैं

फ़ित्ना-जू बेदाद-गर सफ़्फ़ाक ओ अज़्लम कीना-वर
गर्म-जंग ओ गर्म-क़त्ल ओ गर्म-कुश्तन आप हैं

बद-मिज़ाज ओ बद-दिमाग़ व बद-शिआ'र ओ बद-सुलूक
बद-तरीक़ ओ बद-ज़बाँ बद-अहद ओ बद-ज़न आप हैं

बे-मुरव्वत बेवफ़ा ना-मेहरबाँ ना-आश्ना
मेरे क़ातिल मेरे हासिद मेरे दुश्मन आप हैं

ऐ 'ज़फ़र' क्या पा-ए-क़ातिल के है बोसे की हवस
यूँ जो बिस्मिल हो के सरगर्म-ए-तपीदन आप हैं

- Bahadur Shah Zafar
0 Likes

Chaaragar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bahadur Shah Zafar

As you were reading Shayari by Bahadur Shah Zafar

Similar Writers

our suggestion based on Bahadur Shah Zafar

Similar Moods

As you were reading Chaaragar Shayari Shayari