tufta-jaano ka ilaaj ai ahl-e-danish aur hai | तुफ़्ता-जानों का इलाज ऐ अहल-ए-दानिश और है - Bahadur Shah Zafar

tufta-jaano ka ilaaj ai ahl-e-danish aur hai
ishq ki aatish bala hai us ki sozish aur hai

kyun na vehshat mein chubhe har moo b-shakl-e-neesh-tez
khaar-e-gham ki tere deewane ki kaavish aur hai

mutaribo baa-saaz aao tum hamaari bazm mein
saaz-o-samaan se tumhaari itni saazish aur hai

thookta bhi dukhtar-e-raz par nahin mast-e-alast
jo ki hai us faahisha par ghash vo faahish aur hai

taab kya ham-taab hove us se khurshid-e-falak
aaftaab-e-daagh-e-dil ki apne taabish aur hai

sab mita den dil se hain jitni ki us mein khwaahishein
gar hamein maaloom ho kuchh us ki khwaahish aur hai

abr mat ham-chashm hona chashm-e-dariya-baar se
teri baarish aur hai aur us ki baarish aur hai

hai to gardish charkh ki bhi fitna-angezi mein taq
teri chashm-e-fitna-zaa ki lek gardish aur hai

but-parasti jis se hove haq-parasti ai zafar
kya kahoon tujh se ki vo tarz-e-parastish aur hai

तुफ़्ता-जानों का इलाज ऐ अहल-ए-दानिश और है
इश्क़ की आतिश बला है उस की सोज़िश और है

क्यूँ न वहशत में चुभे हर मू ब-शक्ल-ए-नीश-तेज़
ख़ार-ए-ग़म की तेरे दीवाने की काविश और है

मुतरिबो बा-साज़ आओ तुम हमारी बज़्म में
साज़-ओ-सामाँ से तुम्हारी इतनी साज़िश और है

थूकता भी दुख़्तर-ए-रज़ पर नहीं मस्त-ए-अलस्त
जो कि है उस फ़ाहिशा पर ग़श वो फ़ाहिश और है

ताब क्या हम-ताब होवे उस से ख़ुर्शीद-ए-फ़लक
आफ़्ताब-ए-दाग़-ए-दिल की अपने ताबिश और है

सब मिटा दें दिल से हैं जितनी कि उस में ख़्वाहिशें
गर हमें मालूम हो कुछ उस की ख़्वाहिश और है

अब्र मत हम-चश्म होना चश्म-ए-दरिया-बार से
तेरी बारिश और है और उस की बारिश और है

है तो गर्दिश चर्ख़ की भी फ़ित्ना-अंगेज़ी में ताक़
तेरी चश्म-ए-फ़ित्ना-ज़ा की लेक गर्दिश और है

बुत-परस्ती जिस से होवे हक़-परस्ती ऐ 'ज़फ़र'
क्या कहूँ तुझ से कि वो तर्ज़-ए-परस्तिश और है

- Bahadur Shah Zafar
1 Like

Khwaahish Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bahadur Shah Zafar

As you were reading Shayari by Bahadur Shah Zafar

Similar Writers

our suggestion based on Bahadur Shah Zafar

Similar Moods

As you were reading Khwaahish Shayari Shayari