itna na apne jaame se baahar nikal ke chal | इतना न अपने जामे से बाहर निकल के चल - Bahadur Shah Zafar

itna na apne jaame se baahar nikal ke chal
duniya hai chal-chalaav ka rasta sambhal ke chal

kam-zarf pur-ghuroor zara apna zarf dekh
maanind josh-e-gham na ziyaada ubal ke chal

furqat hai ik sada ki yahan soz-e-dil ke saath
us par sapand-waar na itna uchhal ke chal

ye ghol-wash hain in ko samajh tu na rehnuma
saaye se bach ke ahl-e-fareb-wa-daghal ke chal

auron ke bal pe bal na kar itna na chal nikal
bal hai to bal ke bal pe tu kuchh apne bal ke chal

insaan ko kal ka putla banaya hai us ne aap
aur aap hi vo kehta hai putle ko kal ke chal

phir aankhen bhi to deen hain ki rakh dekh kar qadam
kehta hai kaun tujh ko na chal chal sambhal ke chal

hai turfah amn-gaah nihaan-khaana-e-adam
aankhon ke roo-b-roo se tu logon ke tal ke chal

kya chal sakega ham se ki pahchaante hain ham
tu laakh apni chaal ko zalim badal ke chal

hai sham'a sar ke bal jo mohabbat mein garm ho
parwaana apne dil se ye kehta hai jal ke chal

bulbul ke hosh nikhat-e-gul ki tarah uda
gulshan mein mere saath zara itr mal ke chal

gar qasd soo-e-dil hai tira ai nigah-e-yaar
do-chaar teer paik se aage ajal ke chal

jo imtihaan-e-tab' kare apna ai zafar
to kah do us ko taur pe tu is ghazal ke chal

इतना न अपने जामे से बाहर निकल के चल
दुनिया है चल-चलाव का रस्ता सँभल के चल

कम-ज़र्फ़ पुर-ग़ुरूर ज़रा अपना ज़र्फ़ देख
मानिंद जोश-ए-ग़म न ज़ियादा उबल के चल

फ़ुर्सत है इक सदा की यहाँ सोज़-ए-दिल के साथ
उस पर सपंद-वार न इतना उछल के चल

ये ग़ोल-वश हैं इन को समझ तू न रहनुमा
साए से बच के अहल-ए-फ़रेब-व-दग़ल के चल

औरों के बल पे बल न कर इतना न चल निकल
बल है तो बल के बल पे तू कुछ अपने बल के चल

इंसाँ को कल का पुतला बनाया है उस ने आप
और आप ही वो कहता है पुतले को कल के चल

फिर आँखें भी तो दीं हैं कि रख देख कर क़दम
कहता है कौन तुझ को न चल चल सँभल के चल

है तुर्फ़ा अम्न-गाह निहाँ-ख़ाना-ए-अदम
आँखों के रू-ब-रू से तू लोगों के टल के चल

क्या चल सकेगा हम से कि पहचानते हैं हम
तू लाख अपनी चाल को ज़ालिम बदल के चल

है शम्अ सर के बल जो मोहब्बत में गर्म हो
परवाना अपने दिल से ये कहता है जल के चल

बुलबुल के होश निकहत-ए-गुल की तरह उड़ा
गुलशन में मेरे साथ ज़रा इत्र मल के चल

गर क़स्द सू-ए-दिल है तिरा ऐ निगाह-ए-यार
दो-चार तीर पैक से आगे अजल के चल

जो इम्तिहान-ए-तब्अ करे अपना ऐ 'ज़फ़र'
तो कह दो उस को तौर पे तू इस ग़ज़ल के चल

- Bahadur Shah Zafar
0 Likes

Valentine Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bahadur Shah Zafar

As you were reading Shayari by Bahadur Shah Zafar

Similar Writers

our suggestion based on Bahadur Shah Zafar

Similar Moods

As you were reading Valentine Shayari Shayari