ham ne tiri khaatir se dil-e-zaar bhi chhodaa | हम ने तिरी ख़ातिर से दिल-ए-ज़ार भी छोड़ा - Bahadur Shah Zafar

ham ne tiri khaatir se dil-e-zaar bhi chhodaa
tu bhi na hua yaar aur ik yaar bhi chhodaa

kya hoga rafoogar se rafu mera garebaan
ai dast-e-junoon tu ne nahin taar bhi chhodaa

deen de ke gaya kufr ke bhi kaam se aashiq
tasbeeh ke saath us ne to zunnar bhi chhodaa

goshe mein tiri chashm-e-siyah-mast ke dil ne
ki jab se jagah khaana-e-khummaar bhi chhodaa

is se hai ghareebon ko tasalli ki ajal ne
muflis ko jo maara to na zardaar bhi chhodaa

tedhe na ho ham se rakho ikhlaas to seedha
tum pyaar se rukte ho to lo pyaar bhi chhodaa

kya chhodein aseeraan-e-mohabbat ko vo jis ne
sadqe mein na ik murgh-e-giriftaar bhi chhodaa

pahunchee meri ruswaai ki kyunkar khabar us ko
us shokh ne to dekhna akhbaar bhi chhodaa

karta tha jo yaa aane ka jhoota kabhi iqaar
muddat se zafar us ne vo iqaar bhi chhodaa

हम ने तिरी ख़ातिर से दिल-ए-ज़ार भी छोड़ा
तू भी न हुआ यार और इक यार भी छोड़ा

क्या होगा रफ़ूगर से रफ़ू मेरा गरेबान
ऐ दस्त-ए-जुनूँ तू ने नहीं तार भी छोड़ा

दीं दे के गया कुफ़्र के भी काम से आशिक़
तस्बीह के साथ उस ने तो ज़ुन्नार भी छोड़ा

गोशे में तिरी चश्म-ए-सियह-मस्त के दिल ने
की जब से जगह ख़ाना-ए-ख़ु़म्मार भी छोड़ा

इस से है ग़रीबों को तसल्ली कि अजल ने
मुफ़्लिस को जो मारा तो न ज़रदार भी छोड़ा

टेढ़े न हो हम से रखो इख़्लास तो सीधा
तुम प्यार से रुकते हो तो लो प्यार भी छोड़ा

क्या छोड़ें असीरान-ए-मोहब्बत को वो जिस ने
सदक़े में न इक मुर्ग़-ए-गिरफ़्तार भी छोड़ा

पहुँची मिरी रुस्वाई की क्यूँकर ख़बर उस को
उस शोख़ ने तो देखना अख़बार भी छोड़ा

करता था जो याँ आने का झूटा कभी इक़रार
मुद्दत से 'ज़फ़र' उस ने वो इक़रार भी छोड़ा

- Bahadur Shah Zafar
0 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bahadur Shah Zafar

As you were reading Shayari by Bahadur Shah Zafar

Similar Writers

our suggestion based on Bahadur Shah Zafar

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari