mar gaye ai waah un ki naaz-bardaari mein ham | मर गए ऐ वाह उन की नाज़-बरदारी में हम - Bahadur Shah Zafar

mar gaye ai waah un ki naaz-bardaari mein ham
dil ke haathon se pade kaisi giriftaari mein ham

sab pe raushan hai hamaari sozish-e-dil bazm mein
sham'a saan jalte hain apni garm-baazaari mein ham

yaad mein hai tere dam ki aamad-o-shud pur-khyaal
be-khabar sab se hain is dam ki khabardaari mein ham

jab hansaaya gardish-e-gardoon ne ham ko shakl-e-gul
misl-e-shabnam hain hamesha giryaa o zaari mein ham

chashm o dil beena hai apne roz o shab ai mardumaan
garche sote hain b-zaahir par hain bedaari mein ham

dosh par rakht-e-safar baandhe hai kya guncha saba
dekhte hain sab ko yaa jaise ki tayyaari mein ham

kab talak be-deed se ya rab rakhen chashm-e-wafaa
lag rahe hain aaj kal to dil ki gham-khwari mein ham

dekh kar aaina kya kehta hai yaaro ab vo shokh
maah se sad chand behtar hain ada-daari mein ham

ai zafar likh tu ghazal bahar o qawaafi fer kar
khaama-e-dur-rez se hain ab guhar-baari mein ham

मर गए ऐ वाह उन की नाज़-बरदारी में हम
दिल के हाथों से पड़े कैसी गिरफ़्तारी में हम

सब पे रौशन है हमारी सोज़िश-ए-दिल बज़्म में
शम्अ साँ जलते हैं अपनी गर्म-बाज़ारी में हम

याद में है तेरे दम की आमद-ओ-शुद पुर-ख़याल
बे-ख़बर सब से हैं इस दम की ख़बरदारी में हम

जब हँसाया गर्दिश-ए-गर्दूं ने हम को शक्ल-ए-गुल
मिस्ल-ए-शबनम हैं हमेशा गिर्या ओ ज़ारी में हम

चश्म ओ दिल बीना है अपने रोज़ ओ शब ऐ मर्दुमाँ
गरचे सोते हैं ब-ज़ाहिर पर हैं बेदारी में हम

दोश पर रख़्त-ए-सफ़र बाँधे है क्या ग़ुंचा सबा
देखते हैं सब को याँ जैसे कि तय्यारी में हम

कब तलक बे-दीद से या रब रखें चश्म-ए-वफ़ा
लग रहे हैं आज कल तो दिल की ग़म-ख़्वारी में हम

देख कर आईना क्या कहता है यारो अब वो शोख़
माह से सद चंद बेहतर हैं अदा-दारी में हम

ऐ 'ज़फ़र' लिख तू ग़ज़ल बहर ओ क़वाफ़ी फेर कर
ख़ामा-ए-दुर-रेज़ से हैं अब गुहर-बारी में हम

- Bahadur Shah Zafar
1 Like

Raat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bahadur Shah Zafar

As you were reading Shayari by Bahadur Shah Zafar

Similar Writers

our suggestion based on Bahadur Shah Zafar

Similar Moods

As you were reading Raat Shayari Shayari