aish maazi ke gina haal ka ta'na de de | ऐश माज़ी के गिना हाल का ता'ना दे दे - Balmohan Pandey

aish maazi ke gina haal ka ta'na de de
ghar palatne ke liye koi bahaana de de

main ne is shehar ko ik shakhs ka hamnaam kiya
chahe ab jo bhi ise naam zamaana de de

sang-zaadon ko bhi ta'aamir mein shaamil kar lo
is se pehle ki koi aaina-khaana de de

us ka roomaal bhi majboori tha hamdardi nahin
us ko ye dar tha koi aur na shaana de de

dil ke ujde hue jungle ko pada rahne do
ain mumkin hai parindon ko thikaana de de

ऐश माज़ी के गिना हाल का ता'ना दे दे
घर पलटने के लिए कोई बहाना दे दे

मैं ने इस शहर को इक शख़्स का हमनाम किया
चाहे अब जो भी इसे नाम ज़माना दे दे

संग-ज़ादों को भी ता'मीर में शामिल कर लो
इस से पहले कि कोई आइना-ख़ाना दे दे

उस का रूमाल भी मजबूरी था हमदर्दी नहीं
उस को ये डर था कोई और न शाना दे दे

दिल के उजड़े हुए जंगल को पड़ा रहने दो
ऐन मुमकिन है परिंदों को ठिकाना दे दे

- Balmohan Pandey
3 Likes

Terrorism Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Balmohan Pandey

As you were reading Shayari by Balmohan Pandey

Similar Writers

our suggestion based on Balmohan Pandey

Similar Moods

As you were reading Terrorism Shayari Shayari