koi phool dhoop ki pattiyon mein hare riban se bandha hua | कोई फूल धूप की पत्तियों में हरे रिबन से बँधा हुआ - Bashir Badr

koi phool dhoop ki pattiyon mein hare riban se bandha hua
vo ghazal ka lahja naya naya na kaha hua na suna hua

jise le gai hai abhi hawa vo varq tha dil ki kitaab ka
kahi aansuon se mita hua kahi aansuon se likha hua

kai meel ret ko kaat kar koi mauj phool khila gai
koi ped pyaas se mar raha hai nadi ke paas khada hua

wahi khat ki jis pe jagah jagah do mehakte honton ke chaand the
kisi bhule-bisre se taq par tah-e-gard hoga daba hua

mujhe haadson ne saja saja ke bahut haseen bana diya
mera dil bhi jaise dulhan ka haath ho mehndiyon se racha hua

wahi shehar hai wahi raaste wahi ghar hai aur wahi lawn bhi
magar is dariche se poochna vo darakht anaar ka kya hua

mere saath jugnoo hai hum-safar magar is sharar ki bisaat kya
ye charaagh koi charaagh hai na jala hua na bujha hua

कोई फूल धूप की पत्तियों में हरे रिबन से बँधा हुआ
वो ग़ज़ल का लहजा नया नया न कहा हुआ न सुना हुआ

जिसे ले गई है अभी हवा वो वरक़ था दिल की किताब का
कहीं आँसुओं से मिटा हुआ कहीं आँसुओं से लिखा हुआ

कई मील रेत को काट कर कोई मौज फूल खिला गई
कोई पेड़ प्यास से मर रहा है नदी के पास खड़ा हुआ

वही ख़त कि जिस पे जगह जगह दो महकते होंटों के चाँद थे
किसी भूले-बिसरे से ताक़ पर तह-ए-गर्द होगा दबा हुआ

मुझे हादसों ने सजा सजा के बहुत हसीन बना दिया
मिरा दिल भी जैसे दुल्हन का हाथ हो मेहँदियों से रचा हुआ

वही शहर है वही रास्ते वही घर है और वही लॉन भी
मगर इस दरीचे से पूछना वो दरख़्त अनार का क्या हुआ

मिरे साथ जुगनू है हम-सफ़र मगर इस शरर की बिसात क्या
ये चराग़ कोई चराग़ है न जला हुआ न बुझा हुआ

- Bashir Badr
10 Likes

Ujaala Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bashir Badr

As you were reading Shayari by Bashir Badr

Similar Writers

our suggestion based on Bashir Badr

Similar Moods

As you were reading Ujaala Shayari Shayari