falak se chaand sitaaron se jaam lena hai | फ़लक से चाँद सितारों से जाम लेना है - Bashir Badr

falak se chaand sitaaron se jaam lena hai
mujhe sehar se nayi ek shaam lena hai

kise khabar ki farishte ghazal samjhte hain
khuda ke saamne kaafir ka naam lena hai

mua'amla hai tira badtareen dushman se
mere aziz mohabbat se kaam lena hai

mehkati zulfon se khushboo chamakti aankh se dhoop
shabon se jaam-e-sehr ka salaam lena hai

tumhaari chaal ki aahistagi ke lehje mein
sukhun se dil ko masalne ka kaam lena hai

nahin main meer ke dar par kabhi nahin jaata
mujhe khuda se ghazal ka kalaam lena hai

bade saleeqe se noton mein us ko tulwa kar
ameer-e-shahr se ab intiqaam lena hai

फ़लक से चाँद सितारों से जाम लेना है
मुझे सहर से नई एक शाम लेना है

किसे ख़बर कि फ़रिश्ते ग़ज़ल समझते हैं
ख़ुदा के सामने काफ़िर का नाम लेना है

मुआ'मला है तिरा बदतरीन दुश्मन से
मिरे अज़ीज़ मोहब्बत से काम लेना है

महकती ज़ुल्फ़ों से ख़ुशबू चमकती आँख से धूप
शबों से जाम-ए-सहर का सलाम लेना है

तुम्हारी चाल की आहिस्तगी के लहजे में
सुख़न से दिल को मसलने का काम लेना है

नहीं मैं 'मीर' के दर पर कभी नहीं जाता
मुझे ख़ुदा से ग़ज़ल का कलाम लेना है

बड़े सलीक़े से नोटों में उस को तुल्वा कर
अमीर-ए-शहर से अब इंतिक़ाम लेना है

- Bashir Badr
1 Like

Dushmani Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bashir Badr

As you were reading Shayari by Bashir Badr

Similar Writers

our suggestion based on Bashir Badr

Similar Moods

As you were reading Dushmani Shayari Shayari