azmatein sab tiri khudaai ki | अज़्मतें सब तिरी ख़ुदाई की - Bashir Badr

azmatein sab tiri khudaai ki
haisiyat kya meri ikaai ki

mere honton ke phool sookh gaye
tum ne kya mujh se bewafaai ki

sab mere haath paanv lafzon ke
aur aankhen bhi roshnai ki

main hi mulzim hoon main hi munsif hoon
koi soorat nahin rihaai ki

ik baras zindagi ka beet gaya
tah jamee ek aur kaai ki

ab tarsate raho ghazal ke liye
tum ne lafzon se bewafaai ki

अज़्मतें सब तिरी ख़ुदाई की
हैसियत क्या मिरी इकाई की

मिरे होंटों के फूल सूख गए
तुम ने क्या मुझ से बेवफ़ाई की

सब मिरे हाथ पाँव लफ़्ज़ों के
और आँखें भी रौशनाई की

मैं ही मुल्ज़िम हूँ मैं ही मुंसिफ़ हूँ
कोई सूरत नहीं रिहाई की

इक बरस ज़िंदगी का बीत गया
तह जमी एक और काई की

अब तरसते रहो ग़ज़ल के लिए
तुम ने लफ़्ज़ों से बेवफ़ाई की

- Bashir Badr
2 Likes

Wajood Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bashir Badr

As you were reading Shayari by Bashir Badr

Similar Writers

our suggestion based on Bashir Badr

Similar Moods

As you were reading Wajood Shayari Shayari