siskate aab mein kis ki sada hai | सिसकते आब में किस की सदा है - Bashir Badr

siskate aab mein kis ki sada hai
koi dariya ki tah mein ro raha hai

savere meri in aankhon ne dekha
khuda chaaron taraf bikhra hua hai

andheri raat ka tanhaa musaafir
meri palkon pe ab sehama khada hai

haqeeqat surkh machhli jaanti hai
samundar kaisa boodha devta hai

sameto aur seene mein chhupa lo
ye sannaata bahut faila hua hai

pake gehuun ki khushboo cheekhti hai
badan apna sunhara ho chuka hai

hamaari shaakh ka nau-khez patta
hawa ke hont akshar choomta hai

mujhe un neeli aankhon ne bataaya
tumhaara naam paani par likha hai

सिसकते आब में किस की सदा है
कोई दरिया की तह में रो रहा है

सवेरे मेरी इन आँखों ने देखा
ख़ुदा चारों तरफ़ बिखरा हुआ है

अँधेरी रात का तन्हा मुसाफ़िर
मिरी पलकों पे अब सहमा खड़ा है

हक़ीक़त सुर्ख़ मछली जानती है
समुंदर कैसा बूढ़ा देवता है

समेटो और सीने में छुपा लो
ये सन्नाटा बहुत फैला हुआ है

पके गेहूँ की ख़ुशबू चीख़ती है
बदन अपना सुनहरा हो चुका है

हमारी शाख़ का नौ-ख़ेज़ पत्ता
हवा के होंट अक्सर चूमता है

मुझे उन नीली आँखों ने बताया
तुम्हारा नाम पानी पर लिखा है

- Bashir Badr
0 Likes

Raat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bashir Badr

As you were reading Shayari by Bashir Badr

Similar Writers

our suggestion based on Bashir Badr

Similar Moods

As you were reading Raat Shayari Shayari