dil mera tera taab-e-farmaan hai kya karoon | दिल मेरा तेरा ताब-ए-फ़रमाँ है क्या करूँ - Behzad Lakhnavi

dil mera tera taab-e-farmaan hai kya karoon
ab tera kufr hi mera eemaan hai kya karoon

ba-hosh hoon magar mera daaman hai chaak chaak
aalam ye dekh dekh ke hairaan hai kya karoon

har tarah ka sukoon hai har tarah ka hai kaif
phir bhi ye mera qalb pareshaan hai kya karoon

kehta nahin hoon aur zamaana hai ba-khabar
chehre se dil ka haal numayaan hai kya karoon

daaman karoon na chaak ye mumkin to hai magar
muztar har ek taar-e-garebaan hai kya karoon

saada sa ik varq hoon kitaab-e-hayaat ka
hasrat se ab na ab koi armaan hai kya karoon

har samt pa raha hoon wahi rang-e-dil-fareb
haathon mein kufr ke mera eemaan hai kya karoon

daaghoon ka qalb-e-zaar se mumkin to hai ilaaj
un ke hi dam se dil mein charaaghaan hai kya karoon

ik be-wafa ke vaaste se sab kuch luta diya
bahzaad ab na deen na eemaan hai kya karoon

दिल मेरा तेरा ताब-ए-फ़रमाँ है क्या करूँ
अब तेरा कुफ़्र ही मिरा ईमाँ है क्या करूँ

बा-होश हूँ मगर मिरा दामन है चाक चाक
आलम ये देख देख के हैराँ है क्या करूँ

हर तरह का सुकून है हर तरह का है कैफ़
फिर भी ये मेरा क़ल्ब परेशाँ है क्या करूँ

कहता नहीं हूँ और ज़माना है बा-ख़बर
चेहरे से दिल का हाल नुमायाँ है क्या करूँ

दामन करूँ न चाक ये मुमकिन तो है मगर
मुज़्तर हर एक तार-ए-गरेबाँ है क्या करूँ

सादा सा इक वरक़ हूँ किताब-ए-हयात का
हसरत से अब न अब कोई अरमाँ है क्या करूँ

हर सम्त पा रहा हूँ वही रंग-ए-दिल-फ़रेब
हाथों में कुफ़्र के मिरा ईमाँ है क्या करूँ

दाग़ों का क़ल्ब-ए-ज़ार से मुमकिन तो है इलाज
उन के ही दम से दिल में चराग़ाँ है क्या करूँ

इक बे-वफ़ा के वास्ते से सब कुछ लुटा दिया
'बहज़ाद' अब न दीन न ईमाँ है क्या करूँ

- Behzad Lakhnavi
0 Likes

Greed Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Behzad Lakhnavi

As you were reading Shayari by Behzad Lakhnavi

Similar Writers

our suggestion based on Behzad Lakhnavi

Similar Moods

As you were reading Greed Shayari Shayari