un ko but samjha tha ya un ko khuda samjha tha main | उन को बुत समझा था या उन को ख़ुदा समझा था मैं - Behzad Lakhnavi

un ko but samjha tha ya un ko khuda samjha tha main
haan bata de ai jabeen-e-shauq kya samjha tha main

allah allah kya inaayat kar gai mizraab-e-ishq
warna saaz-e-zindagi ko be-sada samjha tha main

un se shikwa kyun karoon un se shikaayat kya karoon
khud badi mushkil se apna muddaa samjha tha main

meri haalat dekhiye mera tadapna dekhiye
aap ko is se garz kya hai ki kya samjha tha main

khul gaya ye raaz un aankhon ke ashk-e-naaz se
kaifiyaat-e-husn ko gham se juda samjha tha main

ai jabeen-e-shauq haan tujh ko badi zahmat hui
aaj har zarre ko un ka naqsh-e-paa samjha tha main

ik nazar par munhasir thi zeest ki kul kaayenaat
har nazar ko jaan jaan-e-muddaa samjha tha main

aa raha hai kyun kisi ka naam honton tak mere
ai dil-e-muztar tujhe sabr-aazma samjha tha main

aap to har har qadam par ho rahe hain jalva-gar
aap ko hadd-e-nazar se maavra samjha tha main

ye fugaan ye shor ye naale ye shevan the fuzool
kya bataati thi mohabbat aur kya samjha tha main

us nigaah-e-naaz ne bahzaad mujh ko kho diya
jis nigaah-e-naaz ko apni dava samjha tha main

उन को बुत समझा था या उन को ख़ुदा समझा था मैं
हाँ बता दे ऐ जबीन-ए-शौक़ क्या समझा था मैं

अल्लाह अल्लाह क्या इनायत कर गई मिज़राब-ए-इश्क़
वर्ना साज़-ए-ज़िंदगी को बे-सदा समझा था मैं

उन से शिकवा क्यूँ करूँ उन से शिकायत क्या करूँ
ख़ुद बड़ी मुश्किल से अपना मुद्दआ समझा था मैं

मेरी हालत देखिए मेरा तड़पना देखिए
आप को इस से ग़रज़ क्या है कि क्या समझा था मैं

खुल गया ये राज़ उन आँखों के अश्क-ए-नाज़ से
कैफ़ियात-ए-हुस्न को ग़म से जुदा समझा था मैं

ऐ जबीन-ए-शौक़ हाँ तुझ को बड़ी ज़हमत हुई
आज हर ज़र्रे को उन का नक़्श-ए-पा समझा था मैं

इक नज़र पर मुनहसिर थी ज़ीस्त की कुल काएनात
हर नज़र को जान जान-ए-मुद्दआ समझा था मैं

आ रहा है क्यूँ किसी का नाम होंटों तक मिरे
ऐ दिल-ए-मुज़्तर तुझे सब्र-आज़मा समझा था मैं

आप तो हर हर क़दम पर हो रहे हैं जल्वा-गर
आप को हद्द-ए-नज़र से मावरा समझा था मैं

ये फ़ुग़ाँ ये शोर ये नाले ये शेवन थे फ़ुज़ूल
क्या बताती थी मोहब्बत और क्या समझा था मैं

उस निगाह-ए-नाज़ ने 'बहज़ाद' मुझ को खो दिया
जिस निगाह-ए-नाज़ को अपनी दवा समझा था मैं

- Behzad Lakhnavi
0 Likes

Ishq Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Behzad Lakhnavi

As you were reading Shayari by Behzad Lakhnavi

Similar Writers

our suggestion based on Behzad Lakhnavi

Similar Moods

As you were reading Ishq Shayari Shayari