tumhaare husn ki taskheer aam hoti hai | तुम्हारे हुस्न की तस्ख़ीर आम होती है - Behzad Lakhnavi

tumhaare husn ki taskheer aam hoti hai
ki ik nigaah mein duniya tamaam hoti hai

jahaan pe jalwa-e-jaanaan hai anjuman-aara
wahan nigaah ki manzil tamaam hoti hai

wahi khalish wahi sozish wahi tapish wahi dard
humein sehar bhi b-andaaz-e-shaam hoti hai

nigaah-e-husn mubarak tujhe dar-andaazi
kabhi kabhi meri mehfil bhi aam hoti hai

zahe naseeb mein qurbaan apni qismat ke
tire liye meri duniya tamaam hoti hai

namaaz-e-ishq ka hai inhisaar ashkon tak
ye be-niyaaz-e-sujood-o-qayaam hoti hai

tiri nigaah ke qurbaan tiri nigaah ki tees
ye na-tamaam hi rah kar tamaam hoti hai

wahan pe chal mujhe le kar mere samand-e-khayaal
jahaan nigaah ki masti haraam hoti hai

kisi ke zikr se bahzaad mubtala ab tak
jigar mein ik khalish-e-na-tamaam hoti hai

तुम्हारे हुस्न की तस्ख़ीर आम होती है
कि इक निगाह में दुनिया तमाम होती है

जहाँ पे जल्वा-ए-जानाँ है अंजुमन-आरा
वहाँ निगाह की मंज़िल तमाम होती है

वही ख़लिश वही सोज़िश वही तपिश वही दर्द
हमें सहर भी ब-अंदाज़-ए-शाम होती है

निगाह-ए-हुस्न मुबारक तुझे दर-अंदाज़ी
कभी कभी मिरी महफ़िल भी आम होती है

ज़हे नसीब में क़ुर्बान अपनी क़िस्मत के
तिरे लिए मिरी दुनिया तमाम होती है

नमाज़-ए-इश्क़ का है इंहिसार अश्कों तक
ये बे-नियाज़-ए-सुजूद-ओ-क़याम होती है

तिरी निगाह के क़ुर्बां तिरी निगाह की टीस
ये ना-तमाम ही रह कर तमाम होती है

वहाँ पे चल मुझे ले कर मिरे समंद-ए-ख़याल
जहाँ निगाह की मस्ती हराम होती है

किसी के ज़िक्र से 'बहज़ाद' मुब्तला अब तक
जिगर में इक ख़लिश-ए-ना-तमाम होती है

- Behzad Lakhnavi
1 Like

Duniya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Behzad Lakhnavi

As you were reading Shayari by Behzad Lakhnavi

Similar Writers

our suggestion based on Behzad Lakhnavi

Similar Moods

As you were reading Duniya Shayari Shayari