andhera mitaa nahin hai mitaana padta hai | अंधेरा मिटता नहीं है मिटाना पड़ता है - Bharat Bhushan Pant

andhera mitaa nahin hai mitaana padta hai
bujhe charaagh ko phir se jalana padta hai

ye aur baat hai ghabra raha hai dil warna
ghamon ka bojh to sab ko uthaana padta hai

kabhi kabhi to in ashkon ki aabroo ke liye
na chahte hue bhi muskurana padta hai

ab apni baat ko kehna bahut hi mushkil hai
har ek baat ko kitna ghumaana padta hai

vagarna guftugoo karti nahin ye khaamoshi
har ik sada ko humein chup karaana padta hai

ab apne paas to hum khud ko bhi nahin milte
humein bhi khud se bahut door jaana padta hai

ik aisa waqt bhi aata hai zindagi mein kabhi
jab apne saaye se peecha chhudana padta hai

bas ek jhooth kabhi aaine se bola tha
ab apne aap se chehra chhupaana padta hai

hamaare haal pe ab chhod de humein duniya
ye baar baar humein kyun bataana padta hai

अंधेरा मिटता नहीं है मिटाना पड़ता है
बुझे चराग़ को फिर से जलाना पड़ता है

ये और बात है घबरा रहा है दिल वर्ना
ग़मों का बोझ तो सब को उठाना पड़ता है

कभी कभी तो इन अश्कों की आबरू के लिए
न चाहते हुए भी मुस्कुराना पड़ता है

अब अपनी बात को कहना बहुत ही मुश्किल है
हर एक बात को कितना घुमाना पड़ता है

वगर्ना गुफ़्तुगू करती नहीं ये ख़ामोशी
हर इक सदा को हमें चुप कराना पड़ता है

अब अपने पास तो हम ख़ुद को भी नहीं मिलते
हमें भी ख़ुद से बहुत दूर जाना पड़ता है

इक ऐसा वक़्त भी आता है ज़िंदगी में कभी
जब अपने साए से पीछा छुड़ाना पड़ता है

बस एक झूट कभी आइने से बोला था
अब अपने आप से चेहरा छुपाना पड़ता है

हमारे हाल पे अब छोड़ दे हमें दुनिया
ये बार बार हमें क्यूँ बताना पड़ता है

- Bharat Bhushan Pant
1 Like

Life Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Bharat Bhushan Pant

As you were reading Shayari by Bharat Bhushan Pant

Similar Writers

our suggestion based on Bharat Bhushan Pant

Similar Moods

As you were reading Life Shayari Shayari