na koi dost dushman ho shareek-e-dard-o-gham mera | न कोई दोस्त दुश्मन हो शरीक-ए-दर्द-ओ-ग़म मेरा - Chakbast Brij Narayan

na koi dost dushman ho shareek-e-dard-o-gham mera
salaamat meri gardan par rahe baar-e-alam mera

likha ye daavar-e-mahshar ne meri fard-e-isyaan par
ye vo banda hai jis par naaz karta hai karam mera

kaha guncha ne hans kar waah kya nairang-e-aalam hai
vujood gul jise samjhe hain sab hai vo adam mera

kashaaksh hai ummeed-o-yaas ki ye zindagi kya hai
ilaahi aisi hasti se to achha tha adam mera

dil-e-ahbaab mein ghar hai shagufta rahti hai khaatir
yahi jannat hai meri aur yahi baagh-e-iram mera

mujhe ahbaab ki pursish ki ghairat maar daalegi
qayamat hai agar ifshaa hua raaz-e-alam mera

khadi theen raasta roke hue laakhon tamannaayein
shaheed-e-yaas hoon nikla hai kis mushkil se dam mera

khuda ne ilm baksha hai adab ahbaab karte hain
yahi daulat hai meri aur yahi jaah-o-hashm mera

zubaan-e-haal se ye lucknow ki khaak kahti hai
mitaaya gardish-e-aflaak ne jaah-o-hashm mera

kiya hai faash parda kufr-o-deen ka is qadar main ne
ki dushman hai brahman aur adoo shaikh-e-haram mera

न कोई दोस्त दुश्मन हो शरीक-ए-दर्द-ओ-ग़म मेरा
सलामत मेरी गर्दन पर रहे बार-ए-अलम मेरा

लिखा ये दावर-ए-महशर ने मेरी फ़र्द-ए-इसयाँ पर
ये वो बंदा है जिस पर नाज़ करता है करम मेरा

कहा ग़ुंचा ने हँस कर वाह क्या नैरंग-ए-आलम है
वजूद गुल जिसे समझे हैं सब है वो अदम मेरा

कशाकश है उम्मीद-ओ-यास की ये ज़िंदगी क्या है
इलाही ऐसी हस्ती से तो अच्छा था अदम मेरा

दिल-ए-अहबाब में घर है शगुफ़्ता रहती है ख़ातिर
यही जन्नत है मेरी और यही बाग़-ए-इरम मेरा

मुझे अहबाब की पुर्सिश की ग़ैरत मार डालेगी
क़यामत है अगर इफ़शा हुआ राज़-ए-अलम मेरा

खड़ी थीं रास्ता रोके हुए लाखों तमन्नाएँ
शहीद-ए-यास हूँ निकला है किस मुश्किल से दम मेरा

ख़ुदा ने इल्म बख़्शा है अदब अहबाब करते हैं
यही दौलत है मेरी और यही जाह-ओ-हशम मेरा

ज़बान-ए-हाल से ये लखनऊ की ख़ाक कहती है
मिटाया गर्दिश-ए-अफ़्लाक ने जाह-ओ-हशम मेरा

किया है फ़ाश पर्दा कुफ़्र-ओ-दीं का इस क़दर मैं ने
कि दुश्मन है बरहमन और अदू शैख़-ए-हरम मेरा

- Chakbast Brij Narayan
0 Likes

Adaa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Chakbast Brij Narayan

As you were reading Shayari by Chakbast Brij Narayan

Similar Writers

our suggestion based on Chakbast Brij Narayan

Similar Moods

As you were reading Adaa Shayari Shayari