koi khat vat nahin faara koi tohfa nahin toda | कोई ख़त वत नहीं फाड़ा कोई तोहफ़ा नहीं तोड़ा - Charagh Sharma

koi khat vat nahin faara koi tohfa nahin toda
ki vo dekhe to khud soche ki dil toda nahin toda

yahan maine gale mein baandh li rassi aur ik vo hai
ki ab tak sirf dastak di hai darwaaza nahin toda

bharosa tha bharosa tod dega vo so usne bhi
bharosa tod ke vo jo bharosa tha nahin toda

banaana aa gaya jab kaanch ki kirchon se kohinoor
ghazal kehne lage gusse mein guldasta nahin toda

कोई ख़त वत नहीं फाड़ा कोई तोहफ़ा नहीं तोड़ा
कि वो देखे तो ख़ुद सोचे कि दिल तोड़ा नहीं तोड़ा

यहाँ मैंने गले में बाँध ली रस्सी और इक वो है
कि अब तक सिर्फ़ दस्तक दी है दरवाज़ा नहीं तोड़ा

भरोसा था भरोसा तोड़ देगा वो सो उसने भी
भरोसा तोड़ के वो जो भरोसा था नहीं तोड़ा

बनाना आ गया जब काँच की किरचों से कोहेनूर
ग़ज़ल कहने लगे ग़ुस्से में गुलदस्ता नहीं तोड़ा

- Charagh Sharma
14 Likes

Hug Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Charagh Sharma

As you were reading Shayari by Charagh Sharma

Similar Writers

our suggestion based on Charagh Sharma

Similar Moods

As you were reading Hug Shayari Shayari