ab ye gul gulnaar kab hai khaar hai be-kaar hai | अब ये गुल गुलनार कब है ख़ार है बे-कार है - Charagh Sharma

ab ye gul gulnaar kab hai khaar hai be-kaar hai
aap ne jab kah diya be-kaar hai be-kaar hai

chhod kar matla ghazal damdaar hai be-kaar hai
jab sipah-salaar hi beemaar hai be-kaar hai

ik sawaal aisa hai mere paas jis ke saamne
ye jo teri shiddat-e-inkaar hai be-kaar hai

tujh ko bhi hai chaand ka deedaar karne ki talab
ik diye ko raushni darkaar hai be-kaar hai

may-kade ke mukhtalif aadaab hote hain charaagh
jo yahan par saahib-e-kirdaar hai be-kaar hai

अब ये गुल गुलनार कब है ख़ार है बे-कार है
आप ने जब कह दिया बे-कार है बे-कार है

छोड़ कर मतला ग़ज़ल दमदार है बे-कार है
जब सिपह-सालार ही बीमार है बे-कार है

इक सवाल ऐसा है मेरे पास जिस के सामने
ये जो तेरी शिद्दत-ए-इन्कार है बे-कार है

तुझ को भी है चाँद का दीदार करने की तलब
इक दिए को रौशनी दरकार है बे-कार है

मय-कदे के मुख़्तलिफ़ आदाब होते हैं 'चराग़'
जो यहाँ पर साहब-ए-किरदार है बे-कार है

- Charagh Sharma
2 Likes

Raushni Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Charagh Sharma

As you were reading Shayari by Charagh Sharma

Similar Writers

our suggestion based on Charagh Sharma

Similar Moods

As you were reading Raushni Shayari Shayari