abke mili shikast meri or se mujhe | अबके मिली शिकस्त मेरी ओर से मुझे - Charagh Sharma

abke mili shikast meri or se mujhe
jitwa diya gaya kisi kamzor se mujhe

alfaaz dhonay waali ik awaaz tha main bas
phir usne sunke sher kiya shor se mujhe

tujhko na pake khush hoon ki khone ka dar nahin
ghurbat bacha rahi hai har ik chor se mujhe

jo shaakh par hain tere guzarne ke baawajood
vo phool chubh rahe hain bahut zor se mujhe

main chahta tha aur kuchh ooncha ho aasmaan
qudrat ne pankh saunp diye mor se mujhe

maine qubool kar liya chupchaap vo gulaab
jo shaakh de rahi thi teri or se mujhe

halke se usne poocha kise doon main apna dil
main man hi man mein cheekha bahut zor se mujhe

अबके मिली शिकस्त मेरी ओर से मुझे
जितवा दिया गया किसी कमज़ोर से मुझे

अल्फ़ाज़ ढ़ोने वाली इक आवाज़ था मैं बस
फिर उसने सुनके शेर किया शोर से मुझे

तुझको न पाके ख़ुश हूँ कि खोने का डर नहीं
ग़ुरबत बचा रही है हर इक चोर से मुझे

जो शाख़ पर हैं तेरे गुज़रने के बावजूद
वो फूल चुभ रहे हैं बहुत ज़ोर से मुझे

मैं चाहता था और कुछ ऊँचा हो आसमान
क़ुदरत ने पंख सौंप दिए मोर से मुझे

मैंने क़ुबूल कर लिया चुपचाप वो गुलाब
जो शाख़ दे रही थी तेरी ओर से मुझे

हल्के से उसने पूछा किसे दूँ मैं अपना दिल
मैं मन ही मन में चीख़ा बहुत ज़ोर से "मुझे"

- Charagh Sharma
16 Likes

Gulaab Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Charagh Sharma

As you were reading Shayari by Charagh Sharma

Similar Writers

our suggestion based on Charagh Sharma

Similar Moods

As you were reading Gulaab Shayari Shayari