sabq aisa padha diya tu ne | सबक़ ऐसा पढ़ा दिया तू ने - Dagh Dehlvi

sabq aisa padha diya tu ne
dil se sab kuchh bhala diya tu ne

ham nikamme hue zamaane ke
kaam aisa sikha diya tu ne

kuchh ta'alluq raha na duniya se
shaghl aisa bata diya tu ne

kis khushi ki khabar suna ke mujhe
gham ka putla bana diya tu ne

kya bataaun ki kya liya main ne
kya kahoon main ki kya diya tu ne

be-talab jo mila mila mujh ko
be-gharz jo diya diya tu ne

umr-e-jaaved khizr ko bakshi
aab-e-haiwaan pila diya tu ne

naar-e-namrood ko kiya gulzaar
dost ko yun bacha diya tu ne

dast-e-moosa mein faiz bakshish hai
noor-o-lauh-o-asa diya tu ne

subh mauj naseem gulshan ko
nafs-e-jaan-faza diya tu ne

shab-e-teera mein sham'a raushan ko
noor khurshid ka diya tu ne

naghma bulbul ko rang-o-boo gul ko
dil-kash-o-khushnuma diya tu ne

kahi mushtaaq se hijaab hua
kahi parda utha diya tu ne

tha mera munh na qaabil-e-labbaik
ka'ba mujh ko dikha diya tu ne

jis qadar main ne tujh se khwaahish ki
is se mujh ko siva diya tu ne

rehbar-e-khizr-o-haadi-e-ilyaas
mujh ko vo rehnuma diya tu ne

mit gaye dil se naqsh-e-baatil sab
naqsha apna jama diya tu ne

hai yahi raah manzil-e-maqsood
khoob raaste laga diya tu ne

mujh gunahgaar ko jo bakhsh diya
to jahannum ko kya diya tu ne

daagh ko kaun dene waala tha
jo diya ai khuda diya tu ne

सबक़ ऐसा पढ़ा दिया तू ने
दिल से सब कुछ भला दिया तू ने

हम निकम्मे हुए ज़माने के
काम ऐसा सिखा दिया तू ने

कुछ तअ'ल्लुक़ रहा न दुनिया से
शग़्ल ऐसा बता दिया तू ने

किस ख़ुशी की ख़बर सुना के मुझे
ग़म का पुतला बना दिया तू ने

क्या बताऊँ कि क्या लिया मैं ने
क्या कहूँ मैं की क्या दिया तू ने

बे-तलब जो मिला मिला मुझ को
बे-ग़रज़ जो दिया दिया तू ने

उम्र-ए-जावेद ख़िज़्र को बख़्शी
आब-ए-हैवाँ पिला दिया तू ने

नार-ए-नमरूद को किया गुलज़ार
दोस्त को यूँ बचा दिया तू ने

दस्त-ए-मूसा में फ़ैज़ बख़्शिश है
नूर-ओ-लौह-ओ-असा दिया तू ने

सुब्ह मौज नसीम गुलशन को
नफ़स-ए-जाँ-फ़ज़ा दिया तू ने

शब-ए-तीरा में शम्अ' रौशन को
नूर ख़ुर्शीद का दिया तू ने

नग़्मा बुलबुल को रंग-ओ-बू गुल को
दिल-कश-ओ-ख़ुशनुमा दिया तू ने

कहीं मुश्ताक़ से हिजाब हुआ
कहीं पर्दा उठा दिया तू ने

था मिरा मुँह न क़ाबिल-ए-लब्बैक
का'बा मुझ को दिखा दिया तू ने

जिस क़दर मैं ने तुझ से ख़्वाहिश की
इस से मुझ को सिवा दिया तू ने

रहबर-ए-ख़िज़्र-ओ-हादी-ए-इल्यास
मुझ को वो रहनुमा दिया तू ने

मिट गए दिल से नक़्श-ए-बातिल सब
नक़्शा अपना जमा दिया तू ने

है यही राह मंज़िल-ए-मक़्सूद
ख़ूब रस्ते लगा दिया तू ने

मुझ गुनहगार को जो बख़्श दिया
तो जहन्नुम को क्या दिया तू ने

'दाग़' को कौन देने वाला था
जो दिया ऐ ख़ुदा दिया तू ने

- Dagh Dehlvi
1 Like

Gulshan Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dagh Dehlvi

As you were reading Shayari by Dagh Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Dagh Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Gulshan Shayari Shayari