tum aaina hi na har baar dekhte jaao | तुम आईना ही न हर बार देखते जाओ - Dagh Dehlvi

tum aaina hi na har baar dekhte jaao
meri taraf bhi to sarkaar dekhte jaao

na jaao haal-e-dil-e-zaar dekhte jaao
ki jee na chahe to naachaar dekhte jaao

bahaar-e-umr mein baag-e-jahaan ki sair karo
khila hua hai ye gulzaar dekhte jaao

yahi to chashm-e-haqeeqat nigarr ka surma hai
niza-e-kaafir-o-deen-daar dekhte jaao

uthao aankh na sharmao ye to mehfil hai
gazab se jaanib-e-aghyaar dekhte jaao

nahin hai jins-e-wafa ki tumhein jo qadr na ho
banenge kitne khareedaar dekhte jaao

tumhein garz jo karo rehm paayemaalon par
tum apni shokhi-e-raftaar dekhte jaao

qasam bhi khaai thi quraan bhi uthaya tha
phir aaj hai wahi inkaar dekhte jaao

ye shaamat aayi ki us ki gali mein dil ne kaha
khula hai rauzan-e-deewar dekhte jaao

hua hai kya abhi hangaama aur kuchh hoga
fugaan mein hashr ke aasaar dekhte jaao

shab-e-visaal adoo ki yahi nishaani hai
nishaan-e-bosa-e-rukhsaar dekhte jaao

tumhaari aankh mere dil se le sabab be-wajh
hui hai ladne ko taiyyaar dekhte jaao

idhar ko aa hi gaye ab to hazrat-e-zaahid
yahin hai khaana-e-khummaar dekhte jaao

raqeeb barsar-e-parkhaash ham se hota hai
badhegi muft mein takraar dekhte jaao

nahin hain jurm-e-mohabbat mein sab ke sab mulzim
khata mua'af khata-waar dekhte jaao

dikha rahi hai tamasha falak ki nairangi
naya hai shobdaa har baar dekhte jaao

bana diya meri chaahat ne ghairat-e-yoosuf
tum apni garmi-e-baazaar dekhte jaao

na jaao band kiye aankh rah-ravaan-e-adam
idhar udhar bhi khabar-daar dekhte jaao

suni-sunaai pe hargiz kabhi amal na karo
hamaare haal ke akhbaar dekhte jaao

koi na koi har ik sher mein hai baat zaroor
janaab-e-'daagh ke ashaar dekhte jaao

तुम आईना ही न हर बार देखते जाओ
मिरी तरफ़ भी तो सरकार देखते जाओ

न जाओ हाल-ए-दिल-ए-ज़ार देखते जाओ
कि जी न चाहे तो नाचार देखते जाओ

बहार-ए-उम्र में बाग़-ए-जहाँ की सैर करो
खिला हुआ है ये गुलज़ार देखते जाओ

यही तो चश्म-ए-हक़ीक़त निगर का सुर्मा है
निज़ा-ए-काफ़िर-ओ-दीं-दार देखते जाओ

उठाओ आँख न शरमाओ ये तो महफ़िल है
ग़ज़ब से जानिब-ए-अग़्यार देखते जाओ

नहीं है जिंस-ए-वफ़ा की तुम्हें जो क़द्र न हो
बनेंगे कितने ख़रीदार देखते जाओ

तुम्हें ग़रज़ जो करो रहम पाएमालों पर
तुम अपनी शोख़ी-ए-रफ़्तार देखते जाओ

क़सम भी खाई थी क़ुरआन भी उठाया था
फिर आज है वही इंकार देखते जाओ

ये शामत आई कि उस की गली में दिल ने कहा
खुला है रौज़न-ए-दीवार देखते जाओ

हुआ है क्या अभी हंगामा और कुछ होगा
फ़ुग़ाँ में हश्र के आसार देखते जाओ

शब-ए-विसाल अदू की यही निशानी है
निशाँ-ए-बोसा-ए-रुख़्सार देखते जाओ

तुम्हारी आँख मिरे दिल से ले सबब बे-वज्ह
हुई है लड़ने को तय्यार देखते जाओ

इधर को आ ही गए अब तो हज़रत-ए-ज़ाहिद
यहीं है ख़ाना-ए-ख़ु़म्मार देखते जाओ

रक़ीब बरसर-ए-परख़ाश हम से होता है
बढ़ेगी मुफ़्त में तकरार देखते जाओ

नहीं हैं जुर्म-ए-मोहब्बत में सब के सब मुल्ज़िम
ख़ता मुआ'फ़ ख़ता-वार देखते जाओ

दिखा रही है तमाशा फ़लक की नैरंगी
नया है शो'बदा हर बार देखते जाओ

बना दिया मिरी चाहत ने ग़ैरत-ए-यूसुफ़
तुम अपनी गर्मी-ए-बाज़ार देखते जाओ

न जाओ बंद किए आँख रह-रवान-ए-अदम
इधर उधर भी ख़बर-दार देखते जाओ

सुनी-सुनाई पे हरगिज़ कभी अमल न करो
हमारे हाल के अख़बार देखते जाओ

कोई न कोई हर इक शेर में है बात ज़रूर
जनाब-ए-'दाग़' के अशआ'र देखते जाओ

- Dagh Dehlvi
2 Likes

Mehfil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dagh Dehlvi

As you were reading Shayari by Dagh Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Dagh Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Mehfil Shayari Shayari