zaahid na kah buri ki ye mastaane aadmi hain | ज़ाहिद न कह बुरी कि ये मस्ताने आदमी हैं - Dagh Dehlvi

zaahid na kah buri ki ye mastaane aadmi hain
tujh ko lipt padenge deewane aadmi hain

ghairoon ki dosti par kyun e'tibaar kijeye
ye dushmani karenge begaane aadmi hain

jo aadmi pe guzri vo ik siva tumhaare
kya jee laga ke sunte afsaane aadmi hain

kya juraten jo ham ko darbaan tumhaara toke
kah do ki ye to jaane-pahchaane aadmi hain

may boond bhar pila kar kya hans raha hai saaqi
bhar bhar ke peete aakhir paimaane aadmi hain

tum ne hamaare dil mein ghar kar liya to kya hai
aabaad karte aakhir veeraane aadmi hain

naaseh se koi kah de kijeye kalaam aisa
hazrat ko ta ki koi ye jaane aadmi hain

jab daavar-e-qayaamat poochhega tum pe rakh kar
kah denge saaf ham to begaane aadmi hain

main vo bashar ki mujh se har aadmi ko nafrat
tum sham'a vo ki tum par parwaane aadmi hain

mehfil bhari hui hai saudaiyon se us ki
us ghairat-e-pari par deewane aadmi hain

shaabaash daagh tujh ko kya tegh-e-ishq khaai
jee karte hain wahi jo mardaane aadmi hain

ज़ाहिद न कह बुरी कि ये मस्ताने आदमी हैं
तुझ को लिपट पड़ेंगे दीवाने आदमी हैं

ग़ैरों की दोस्ती पर क्यूँ ए'तिबार कीजे
ये दुश्मनी करेंगे बेगाने आदमी हैं

जो आदमी पे गुज़री वो इक सिवा तुम्हारे
क्या जी लगा के सुनते अफ़्साने आदमी हैं

क्या जुरअतें जो हम को दरबाँ तुम्हारा टोके
कह दो कि ये तो जाने-पहचाने आदमी हैं

मय बूँद भर पिला कर क्या हँस रहा है साक़ी
भर भर के पीते आख़िर पैमाने आदमी हैं

तुम ने हमारे दिल में घर कर लिया तो क्या है
आबाद करते आख़िर वीराने आदमी हैं

नासेह से कोई कह दे कीजे कलाम ऐसा
हज़रत को ता कि कोई ये जाने आदमी हैं

जब दावर-ए-क़यामत पूछेगा तुम पे रख कर
कह देंगे साफ़ हम तो बेगाने आदमी हैं

मैं वो बशर कि मुझ से हर आदमी को नफ़रत
तुम शम्अ वो कि तुम पर परवाने आदमी हैं

महफ़िल भरी हुई है सौदाइयों से उस की
उस ग़ैरत-ए-परी पर दीवाने आदमी हैं

शाबाश 'दाग़' तुझ को क्या तेग़-ए-इश्क़ खाई
जी करते हैं वही जो मर्दाने आदमी हैं

- Dagh Dehlvi
1 Like

Nafrat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dagh Dehlvi

As you were reading Shayari by Dagh Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Dagh Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Nafrat Shayari Shayari