paavon se sir tak jaise ek junoon | पाँवों से सिर तक जैसे एक जनून - Dushyant Kumar

paavon se sir tak jaise ek junoon
betarteebi se badhe hue naakhun

kuch tedhe-medhe bange daagil paanv
jaise koi atom se ujda gaav

takhne jyon mile hue rakhe hon baans
pindaliyaan ki jaise hilti-dulti kaans

kuch aise lagte hain ghutnon ke jod
jaise ubad-khabad raahon ke mod

gatton-see janghaayein nishpraan maleen
kati reetikaal ki sudhiyon se bhi ksheen

chaati ke naam mahj haddi das-bees
jis par gin-chun kar baal khade ikkees

putthe hon jaise sookh gaye amrood
chukta karte-karte jeevan ka sood

baanhe dheeli-dhaali jyon tooti daal
anguliyaan jaise sookhi hui puaal

choti-si gardan rang behad badrang
har waqt paseene ka badboo ka sang

pichki amiyon se gaal late se kaan
aankhen jaise tarkash ke khuttal baan

maathe par chintaon ka ek samooh
bhaunhon par baithi hardam yam ki rooh

tinkon se udte rahne waale baal
vidyut parichaalit makhanateesi chaal

baithe to phir ghanton jaate hain beet
sochte pyaar ki reet bhavishya ateet

kitne ajeeb hain inke bhi vyaapaar
insey miliye ye hain dushyant kumar

पाँवों से सिर तक जैसे एक जनून
बेतरतीबी से बढ़े हुए नाखून

कुछ टेढ़े-मेढ़े बैंगे दागिल पाँव
जैसे कोई एटम से उजड़ा गाँव।

टखने ज्यों मिले हुए रक्खे हों बाँस
पिंडलियाँ कि जैसे हिलती-डुलती काँस

कुछ ऐसे लगते हैं घुटनों के जोड़
जैसे ऊबड़-खाबड़ राहों के मोड़

गट्टों-सी जंघाएँ निष्प्राण मलीन
कटि, रीतिकाल की सुधियों से भी क्षीण

छाती के नाम महज हड्डी दस-बीस
जिस पर गिन-चुन कर बाल खड़े इक्कीस

पुट्ठे हों जैसे सूख गए अमरूद
चुकता करते-करते जीवन का सूद

बाँहें ढीली-ढाली ज्यों टूटी डाल
अँगुलियाँ जैसे सूखी हुई पुआल

छोटी-सी गरदन रंग बेहद बदरंग
हर वक्त पसीने का बदबू का संग

पिचकी अमियों से गाल लटे से कान
आँखें जैसे तरकश के खुट्टल बान

माथे पर चिंताओं का एक समूह
भौंहों पर बैठी हरदम यम की रूह

तिनकों से उड़ते रहने वाले बाल
विद्युत परिचालित मखनातीसी चाल

बैठे तो फिर घंटों जाते हैं बीत
सोचते प्यार की रीत भविष्य अतीत

कितने अजीब हैं इनके भी व्यापार
इनसे मिलिए ये हैं दुष्यंत कुमार

- Dushyant Kumar
3 Likes

Rang Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dushyant Kumar

As you were reading Shayari by Dushyant Kumar

Similar Writers

our suggestion based on Dushyant Kumar

Similar Moods

As you were reading Rang Shayari Shayari