ye faqiri hai qanaat ke siva kya jaane | ये फ़क़ीरी है क़नाअत के सिवा क्या जाने - Faheem Jogapuri

ye faqiri hai qanaat ke siva kya jaane
kaun kya de ke gaya dast-e-dua kya jaane

aag tan mein to laga lena koi khel hai kya
kitne majboor diye honge hawa kya jaane

us ko karna hai tah-e-khaak so karti jaaye
kaun hai seem-badan mauj-e-balaa kya jaane

vo to daryaon ko sairaab kiye jaati hai
sukhe kheton ki zaroorat ko ghatta kya jaane

ashk aankhon mein bhare hon to nazaara kaisa
kaanpata haath koi band-e-qaba kya jaane

koi zinda na bache vo to yahi chahte hain
kitna sunta hai khudaaon ka khuda kya jaane

us se pehle jo kabhi choomte phoolon ko faheem
kaun sa gham hai hamein baad-e-saba kya jaane

ये फ़क़ीरी है क़नाअत के सिवा क्या जाने
कौन क्या दे के गया दस्त-ए-दुआ' क्या जाने

आग तन में तो लगा लेना कोई खेल है क्या
कितने मजबूर दिए होंगे हवा क्या जाने

उस को करना है तह-ए-ख़ाक सो करती जाए
कौन है सीम-बदन मौज-ए-बला क्या जाने

वो तो दरियाओं को सैराब किए जाती है
सूखे खेतों की ज़रूरत को घटा क्या जाने

अश्क आँखों में भरे हों तो नज़ारा कैसा
काँपता हाथ कोई बंद-ए-क़बा क्या जाने

कोई ज़िंदा न बचे वो तो यही चाहते हैं
कितना सुनता है ख़ुदाओं का ख़ुदा क्या जाने

उस से पहले जो कभी चूमते फूलों को 'फहीम'
कौन सा ग़म है हमें बाद-ए-सबा क्या जाने

- Faheem Jogapuri
0 Likes

Khushboo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faheem Jogapuri

As you were reading Shayari by Faheem Jogapuri

Similar Writers

our suggestion based on Faheem Jogapuri

Similar Moods

As you were reading Khushboo Shayari Shayari