apne qadam ki chaap se yun dar rahe hain ham | अपने क़दम की चाप से यूँ डर रहे हैं हम - Faheem Jogapuri

apne qadam ki chaap se yun dar rahe hain ham
maqtal ki samt jaise safar kar rahe hain ham

kya chaand aur taaron ko ham jaante nahin
ai aasmaan waalo zameen par rahe hain ham

mushkil tha sathe-aab se ham ko khangaalnaa
baahar nahin the jitna ki andar rahe hain ham

kal aur koi waqt ki aankhon mein ho to kya
ab tak to har nigaah ka mehwar rahe hain ham

dair-o-haram se aur bhi aage nikal gaye
haan aql ki hudoos se baahar rahe hain ham

ai hum-safar na pooch masafat naseeb se
tu jaanta hai kitne dinon ghar rahe hain ham

baahar na aaye ham bhi ana ke hisaar se
is jang mein tumhaare barabar rahe hain ham

jharnon ki kya bisaat karein guftugoo faheem
dariya gire jahaan vo samundar rahe hain ham

अपने क़दम की चाप से यूँ डर रहे हैं हम
मक़्तल की सम्त जैसे सफ़र कर रहे हैं हम

क्या चाँद और तारों को हम जानते नहीं
ऐ आसमान वालो ज़मीं पर रहे हैं हम

मुश्किल था सत्ह-ए-आब से हम को खंगालना
बाहर नहीं थे जितना कि अंदर रहे हैं हम

कल और कोई वक़्त की आँखों में हो तो क्या
अब तक तो हर निगाह का मेहवर रहे हैं हम

दैर-ओ-हरम से और भी आगे निकल गए
हाँ अक़्ल की हुदूद से बाहर रहे हैं हम

ऐ हम-सफ़र न पूछ मसाफ़त नसीब से
तू जानता है कितने दिनों घर रहे हैं हम

बाहर न आए हम भी अना के हिसार से
इस जंग में तुम्हारे बराबर रहे हैं हम

झरनों की क्या बिसात करें गुफ़्तुगू 'फहीम'
दरिया गिरे जहाँ वो समुंदर रहे हैं हम

- Faheem Jogapuri
0 Likes

Nigaah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faheem Jogapuri

As you were reading Shayari by Faheem Jogapuri

Similar Writers

our suggestion based on Faheem Jogapuri

Similar Moods

As you were reading Nigaah Shayari Shayari