aana tha jise aaj vo aaya to nahin hai | आना था जिसे आज वो आया तो नहीं है - Faheem Jogapuri

aana tha jise aaj vo aaya to nahin hai
ye waqt badlne ka ishaara to nahin hai

daawat de kabhi kyun vo mohabbat se bulaaye
dariya se meri pyaas ka rishta to nahin hai

ye kaun gaya hai ki jhapakti nahin aankhen
raaste mein vo thehra hua lamha to nahin hai

hansta hua chehra hai damkata hua paikar
guzra hua ye mera zamaana to nahin hai

aankhon ne abhi neend ka daaman nahin chhodaa
khwaabon se bharosa abhi toota to nahin hai

dariya mein sar-e-shaam hai dooba hua suraj
din-bhar ka musaafir koi pyaasa to nahin hai

chhod aaye ho jis ke liye aanchal ki ghani chaanv
is shehar mein vo dhoop ka tukda to nahin hai

raaste mein faheem us ki tabi'at ka bigadna
ghar jaane ka ik aur bahaana to nahin hai

आना था जिसे आज वो आया तो नहीं है
ये वक़्त बदलने का इशारा तो नहीं है

दावत दे कभी क्यूँ वो मोहब्बत से बुलाए
दरिया से मिरी प्यास का रिश्ता तो नहीं है

ये कौन गया है कि झपकती नहीं आँखें
रस्ते में वो ठहरा हुआ लम्हा तो नहीं है

हँसता हुआ चेहरा है दमकता हुआ पैकर
गुज़रा हुआ ये मेरा ज़माना तो नहीं है

आँखों ने अभी नींद का दामन नहीं छोड़ा
ख़्वाबों से भरोसा अभी टूटा तो नहीं है

दरिया में सर-ए-शाम है डूबा हुआ सूरज
दिन-भर का मुसाफ़िर कोई प्यासा तो नहीं है

छोड़ आए हो जिस के लिए आँचल की घनी छाँव
इस शहर में वो धूप का टुकड़ा तो नहीं है

रस्ते में 'फहीम' उस की तबीअ'त का बिगड़ना
घर जाने का इक और बहाना तो नहीं है

- Faheem Jogapuri
0 Likes

Samundar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faheem Jogapuri

As you were reading Shayari by Faheem Jogapuri

Similar Writers

our suggestion based on Faheem Jogapuri

Similar Moods

As you were reading Samundar Shayari Shayari