dosti mein na dushmani mein ham | दोस्ती में न दुश्मनी में हम - Faheem Jogapuri

dosti mein na dushmani mein ham
kya nazar aayenge kisi mein ham

kyun sajaate hain khwaab sadiyon ke
chand lamhon ki zindagi mein ham

sair karte hain dono aalam ki
apne khwaabon ki paalki mein ham

jab tumhaara khayal aata hai
doob jaate hain raushni mein ham

koi awaaz kyun nahin deta
dagmagate hain teergi mein ham

pyaas ham ko kahi sataati hai
tairte hain kahi nadi mein ham

raat hoti to koi baat na thi
loot gaye din ki raushni mein ham

apne maazi se baat karte hain
teri yaadon ki chaandni mein ham

दोस्ती में न दुश्मनी में हम
क्या नज़र आएँगे किसी में हम

क्यूँ सजाते हैं ख़्वाब सदियों के
चंद लम्हों की ज़िंदगी में हम

सैर करते हैं दोनों आलम की
अपने ख़्वाबों की पालकी में हम

जब तुम्हारा ख़याल आता है
डूब जाते हैं रौशनी में हम

कोई आवाज़ क्यूँ नहीं देता
डगमगाते हैं तीरगी में हम

प्यास हम को कहीं सताती है
तैरते हैं कहीं नदी में हम

रात होती तो कोई बात न थी
लुट गए दिन की रौशनी में हम

अपने माज़ी से बात करते हैं
तेरी यादों की चाँदनी में हम

- Faheem Jogapuri
1 Like

Khyaal Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faheem Jogapuri

As you were reading Shayari by Faheem Jogapuri

Similar Writers

our suggestion based on Faheem Jogapuri

Similar Moods

As you were reading Khyaal Shayari Shayari