hijr maujood hai fasaane mein | हिज्र मौजूद है फ़साने में - Faisal Ajmi

hijr maujood hai fasaane mein
saanp hota hai har khazaane mein

raat bikhri hui thi bistar par
kat gai silvatein uthaane mein

rizq ne ghar sambhaal rakha hai
ishq rakha hai sard khaane mein

raat bhi ho gai hai din jaisi
ghar jalane ke shaakhsaane mein

roz aaseb aate jaate hain
aisa kya hai ghareeb-khaane mein

ho rahi hai mulaazamat faisal
raaegaani ke kaar-khaane mein

हिज्र मौजूद है फ़साने में
साँप होता है हर ख़ज़ाने में

रात बिखरी हुई थी बिस्तर पर
कट गई सिलवटें उठाने में

रिज़्क़ ने घर संभाल रक्खा है
इश्क़ रक्खा है सर्द ख़ाने में

रात भी हो गई है दिन जैसी
घर जलाने के शाख़साने में

रोज़ आसेब आते जाते हैं
ऐसा क्या है ग़रीब-ख़ाने में

हो रही है मुलाज़मत 'फ़ैसल'
राएगानी के कार-ख़ाने में

- Faisal Ajmi
0 Likes

Andhera Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faisal Ajmi

As you were reading Shayari by Faisal Ajmi

Similar Writers

our suggestion based on Faisal Ajmi

Similar Moods

As you were reading Andhera Shayari Shayari