aaj yun mauj-dar-mauj gham tham gaya is tarah gham-zadon ko qaraar aa gaya | आज यूँ मौज-दर-मौज ग़म थम गया इस तरह ग़म-ज़दों को क़रार आ गया - Faiz Ahmad Faiz

aaj yun mauj-dar-mauj gham tham gaya is tarah gham-zadon ko qaraar aa gaya
jaise khush-boo-e-zulf-e-bahaar aa gai jaise paighaam-e-deedaar-e-yaar aa gaya

jis ki deed-o-talab vaham samjhe the ham roo-b-roo phir sar-e-rahguzaar aa gaya
subh-e-farda ko phir dil tarsne laga umr-e-rafta tira e'tibaar aa gaya

rut badlne lagi rang-e-dil dekhna rang-e-gulshan se ab haal khulta nahin
zakham chhalaka koi ya koi gul khila ashk umde ki abr-e-bahaar aa gaya

khoon-e-ushshaq se jaam bharne lage dil sulagne lage daagh jalne lage
mehfil-e-dard phir rang par aa gai phir shab-e-aarzoo par nikhaar aa gaya

sarfaroshi ke andaaz badle gaye daawat-e-qatl par maqtal-e-shehr mein
daal kar koi gardan mein tauq aa gaya laad kar koi kaandhe pe daar aa gaya

faiz kya jaaniye yaar kis aas par muntazir hain ki laayega koi khabar
may-kashon par hua mohtasib meherbaan dil-figaaron pe qaateel ko pyaar aa gaya

आज यूँ मौज-दर-मौज ग़म थम गया इस तरह ग़म-ज़दों को क़रार आ गया
जैसे ख़ुश-बू-ए-ज़ुल्फ़-ए-बहार आ गई जैसे पैग़ाम-ए-दीदार-ए-यार आ गया

जिस की दीद-ओ-तलब वहम समझे थे हम रू-ब-रू फिर सर-ए-रहगुज़ार आ गया
सुब्ह-ए-फ़र्दा को फिर दिल तरसने लगा उम्र-ए-रफ़्ता तिरा ए'तिबार आ गया

रुत बदलने लगी रंग-ए-दिल देखना रंग-ए-गुलशन से अब हाल खुलता नहीं
ज़ख़्म छलका कोई या कोई गुल खिला अश्क उमडे कि अब्र-ए-बहार आ गया

ख़ून-ए-उश्शाक़ से जाम भरने लगे दिल सुलगने लगे दाग़ जलने लगे
महफ़िल-ए-दर्द फिर रंग पर आ गई फिर शब-ए-आरज़ू पर निखार आ गया

सरफ़रोशी के अंदाज़ बदले गए दावत-ए-क़त्ल पर मक़्तल-ए-शहर में
डाल कर कोई गर्दन में तौक़ आ गया लाद कर कोई काँधे पे दार आ गया

'फ़ैज़' क्या जानिए यार किस आस पर मुंतज़िर हैं कि लाएगा कोई ख़बर
मय-कशों पर हुआ मोहतसिब मेहरबाँ दिल-फ़िगारों पे क़ातिल को प्यार आ गया

- Faiz Ahmad Faiz
0 Likes

Phool Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faiz Ahmad Faiz

As you were reading Shayari by Faiz Ahmad Faiz

Similar Writers

our suggestion based on Faiz Ahmad Faiz

Similar Moods

As you were reading Phool Shayari Shayari