zarre hi sahi koh se takra to gaye ham | ज़र्रे ही सही कोह से टकरा तो गए हम - Habib Jalib

zarre hi sahi koh se takra to gaye ham
dil le ke sar-e-arsa-e-gham aa to gaye ham

ab naam rahe ya na rahe ishq mein apna
rudaad-e-wafa daar pe dohraa to gaye ham

kahte the jo ab koi nahin jaan se guzarta
lo jaan se guzar kar unhen jhutla to gaye ham

jaan apni ganwa kar kabhi ghar apna jala kar
dil un ka har ik taur se bahla to gaye ham

kuchh aur hi aalam tha pas-e-chehra-e-yaaraan
rehta jo yoonhi raaz use pa to gaye ham

ab soch rahe hain ki ye mumkin hi nahin hai
phir un se na milne ki qasam kha to gaye ham

utthen ki na utthen ye raza un ki hai jaalib
logon ko sar-e-daar nazar aa to gaye ham

ज़र्रे ही सही कोह से टकरा तो गए हम
दिल ले के सर-ए-अर्सा-ए-ग़म आ तो गए हम

अब नाम रहे या न रहे इश्क़ में अपना
रूदाद-ए-वफ़ा दार पे दोहरा तो गए हम

कहते थे जो अब कोई नहीं जाँ से गुज़रता
लो जाँ से गुज़र कर उन्हें झुटला तो गए हम

जाँ अपनी गँवा कर कभी घर अपना जला कर
दिल उन का हर इक तौर से बहला तो गए हम

कुछ और ही आलम था पस-ए-चेहरा-ए-याराँ
रहता जो यूँही राज़ उसे पा तो गए हम

अब सोच रहे हैं कि ये मुमकिन ही नहीं है
फिर उन से न मिलने की क़सम खा तो गए हम

उट्ठें कि न उट्ठें ये रज़ा उन की है 'जालिब'
लोगों को सर-ए-दार नज़र आ तो गए हम

- Habib Jalib
1 Like

Mehboob Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Habib Jalib

As you were reading Shayari by Habib Jalib

Similar Writers

our suggestion based on Habib Jalib

Similar Moods

As you were reading Mehboob Shayari Shayari