yun vo zulmat se raha dast-o-garebaan yaaro | यूँ वो ज़ुल्मत से रहा दस्त-ओ-गरेबाँ यारो - Habib Jalib

yun vo zulmat se raha dast-o-garebaan yaaro
us se larzaan the bahut shab ke nigahbaan yaaro

us ne har-gaam diya hausla-e-taaza hamein
vo na ik pal bhi raha ham se gurezaan yaaro

us ne maani na kabhi teergi-e-shab se shikast
dil andheron mein raha us ka farozaan yaaro

us ko har haal mein jeene ki ada aati thi
vo na haalaat se hota tha pareshaan yaaro

us ne baatil se na ta-zeest kiya samjhauta
dehr mein us sa kahaan saahib-e-eimaan yaaro

us ko thi kashmakash-e-dair-o-haram se nafrat
us sa hindu na koi us sa musalmaan yaaro

us ne sultaani-e-jamhoor ke nagme likkhe
rooh shahon ki rahi us se pareshaan yaaro

apne ashaar ki shamon se ujaala kar ke
kar gaya shab ka safar kitna vo aasaan yaaro

us ke geeton se zamaane ko sanwaare yaaro
rooh-e-'saahir ko agar karna hai shaadan yaaro

यूँ वो ज़ुल्मत से रहा दस्त-ओ-गरेबाँ यारो
उस से लर्ज़ां थे बहुत शब के निगहबाँ यारो

उस ने हर-गाम दिया हौसला-ए-ताज़ा हमें
वो न इक पल भी रहा हम से गुरेज़ाँ यारो

उस ने मानी न कभी तीरगी-ए-शब से शिकस्त
दिल अँधेरों में रहा उस का फ़रोज़ाँ यारो

उस को हर हाल में जीने की अदा आती थी
वो न हालात से होता था परेशाँ यारो

उस ने बातिल से न ता-ज़ीस्त किया समझौता
दहर में उस सा कहाँ साहब-ए-ईमाँ यारो

उस को थी कश्मकश-ए-दैर-ओ-हरम से नफ़रत
उस सा हिन्दू न कोई उस सा मुसलमाँ यारो

उस ने सुल्तानी-ए-जम्हूर के नग़्मे लिक्खे
रूह शाहों की रही उस से परेशाँ यारो

अपने अशआ'र की शम्ओं' से उजाला कर के
कर गया शब का सफ़र कितना वो आसाँ यारो

उस के गीतों से ज़माने को सँवारें यारो
रूह-ए-'साहिर' को अगर करना है शादाँ यारो

- Habib Jalib
0 Likes

Udasi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Habib Jalib

As you were reading Shayari by Habib Jalib

Similar Writers

our suggestion based on Habib Jalib

Similar Moods

As you were reading Udasi Shayari Shayari