kam puraana bahut naya tha firaq | कम पुराना बहुत नया था फ़िराक़ - Habib Jalib

kam puraana bahut naya tha firaq
ik ajab ramz-aashna tha firaq

door vo kab hua nigaahon se
dhadkano mein basa hua hai firaq

shaam-e-gham ke sulagte sehra mein
ik umandti hui ghatta tha firaq

amn tha pyaar tha mohabbat tha
rang tha noor tha nava tha firaq

faasle nafratoin ke mit jaayen
pyaar hi pyaar sochta tha firaq

ham se ranj-o-alam ke maaron ko
kis mohabbat se dekhta tha firaq

ishq insaaniyat se tha us ko
har ta'assub se maavra tha firaq

कम पुराना बहुत नया था फ़िराक़
इक अजब रम्ज़-आशना था फ़िराक़

दूर वो कब हुआ निगाहों से
धड़कनों में बसा हुआ है फ़िराक़

शाम-ए-ग़म के सुलगते सहरा में
इक उमंडती हुई घटा था फ़िराक़

अम्न था प्यार था मोहब्बत था
रंग था नूर था नवा था फ़िराक़

फ़ासले नफ़रतों के मिट जाएँ
प्यार ही प्यार सोचता था फ़िराक़

हम से रंज-ओ-अलम के मारों को
किस मोहब्बत से देखता था फ़िराक़

इश्क़ इंसानियत से था उस को
हर तअ'स्सुब से मावरा था फ़िराक़

- Habib Jalib
0 Likes

I love you Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Habib Jalib

As you were reading Shayari by Habib Jalib

Similar Writers

our suggestion based on Habib Jalib

Similar Moods

As you were reading I love you Shayari Shayari