afsos tumhein car ke sheeshe ka hua hai | अफ़्सोस तुम्हें कार के शीशे का हुआ है - Habib Jalib

afsos tumhein car ke sheeshe ka hua hai
parwa nahin ik maa ka jo dil toot gaya hai

hota hai asar tum pe kahaan naala-e-gham ka
barham jo hui bazm-e-tarab is ka gila hai

fir'aun bhi namrood bhi guzre hain jahaan mein
rehta hai yahan kaun yahan kaun raha hai

tum zulm kahaan tak tah-e-aflaak karoge
ye baat na bhoolo ki hamaara bhi khuda hai

azaadi-e-insaan ke wahin phool khilenge
jis ja pe zaheer aaj tira khoon gira hai

taa-chand rahegi ye shab-e-gham ki siyaahi
rasta koi suraj ka kahi rok saka hai

tu aaj ka sha'ir hai to kar meri tarah baat
jaise mere honton pe mere dil ki sada hai

अफ़्सोस तुम्हें कार के शीशे का हुआ है
पर्वा नहीं इक माँ का जो दिल टूट गया है

होता है असर तुम पे कहाँ नाला-ए-ग़म का
बरहम जो हुई बज़्म-ए-तरब इस का गिला है

फ़िरऔन भी नमरूद भी गुज़रे हैं जहाँ में
रहता है यहाँ कौन यहाँ कौन रहा है

तुम ज़ुल्म कहाँ तक तह-ए-अफ़्लाक करोगे
ये बात न भूलो कि हमारा भी ख़ुदा है

आज़ादी-ए-इंसान के वहीं फूल खिलेंगे
जिस जा पे ज़हीर आज तिरा ख़ून गिरा है

ता-चंद रहेगी ये शब-ए-ग़म की सियाही
रस्ता कोई सूरज का कहीं रोक सका है

तू आज का शाइ'र है तो कर मेरी तरह बात
जैसे मिरे होंटों पे मिरे दिल की सदा है

- Habib Jalib
0 Likes

Basant Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Habib Jalib

As you were reading Shayari by Habib Jalib

Similar Writers

our suggestion based on Habib Jalib

Similar Moods

As you were reading Basant Shayari Shayari