bahut raushan hai shaam-e-gham hamaari | बहुत रौशन है शाम-ए-ग़म हमारी - Habib Jalib

bahut raushan hai shaam-e-gham hamaari
kisi ki yaad hai hamdam hamaari

galat hai la-taalluq hain chaman se
tumhaare phool aur shabnam hamaari

ye palkon par naye aansu nahin hain
azal se aankh hai pur-nam hamaari

har ik lab par tabassum dekhne ki
tamannaa kab hui hai kam hamaari

kahi hai ham ne khud se bhi bahut kam
na poocho dastaan-e-gham hamaari

बहुत रौशन है शाम-ए-ग़म हमारी
किसी की याद है हमदम हमारी

ग़लत है ला-तअल्लुक़ हैं चमन से
तुम्हारे फूल और शबनम हमारी

ये पलकों पर नए आँसू नहीं हैं
अज़ल से आँख है पुर-नम हमारी

हर इक लब पर तबस्सुम देखने की
तमन्ना कब हुई है कम हमारी

कही है हम ने ख़ुद से भी बहुत कम
न पूछो दास्तान-ए-ग़म हमारी

- Habib Jalib
0 Likes

Nigaah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Habib Jalib

As you were reading Shayari by Habib Jalib

Similar Writers

our suggestion based on Habib Jalib

Similar Moods

As you were reading Nigaah Shayari Shayari