meer'-o-'ghalib bane yagaana bane | मीर'-ओ-'ग़ालिब' बने 'यगाना' बने - Habib Jalib

meer'-o-'ghalib bane yagaana bane
aadmi ai khuda khuda na bane

maut ki dastaras mein kab se hain
zindagi ka koi bahaana bane

apna shaayad yahi tha jurm ai dost
ba-wafa ban ke be-wafa na bane

ham pe ik e'itraaz ye bhi hai
be-nava ho ke be-nava na bane

ye bhi apna qusoor kya kam hai
kisi qaateel ke ham-nava na bane

kya gila sang-dil zamaane ka
aashna hi jab aashna na bane

chhod kar us gali ko ai jaalib
ik haqeeqat se ham fasana bane

मीर'-ओ-'ग़ालिब' बने 'यगाना' बने
आदमी ऐ ख़ुदा ख़ुदा न बने

मौत की दस्तरस में कब से हैं
ज़िंदगी का कोई बहाना बने

अपना शायद यही था जुर्म ऐ दोस्त
बा-वफ़ा बन के बे-वफ़ा न बने

हम पे इक ए'तिराज़ ये भी है
बे-नवा हो के बे-नवा न बने

ये भी अपना क़ुसूर क्या कम है
किसी क़ातिल के हम-नवा न बने

क्या गिला संग-दिल ज़माने का
आश्ना ही जब आश्ना न बने

छोड़ कर उस गली को ऐ 'जालिब'
इक हक़ीक़त से हम फ़साना बने

- Habib Jalib
0 Likes

Zindagi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Habib Jalib

As you were reading Shayari by Habib Jalib

Similar Writers

our suggestion based on Habib Jalib

Similar Moods

As you were reading Zindagi Shayari Shayari