ab teri zaroorat bhi bahut kam hai meri jaan | अब तेरी ज़रूरत भी बहुत कम है मिरी जाँ - Habib Jalib

ab teri zaroorat bhi bahut kam hai meri jaan
ab shauq ka kuchh aur hi aalam hai meri jaan

ab tazkira-e-khanda-e-gul baar hai jee par
jaan waqf-e-gham-e-giryaa-e-shabnam hai meri jaan

rukh par tire bikhri hui ye zulf-e-siyah-taab
tasveer-e-pareshaani-e-aalam hai meri jaan

ye kya ki tujhe bhi hai zamaane se shikaayat
ye kya ki tiri aankh bhi pur-nam hai meri jaan

ham saada-dilon par ye shab-e-gham ka tasallut
mayus na ho aur koi dam hai meri jaan

ye teri tavajjoh ka hai ejaz ki mujh se
har shakhs tire shehar ka barham hai meri jaan

ai nuzhat-e-mahtaab tira gham hai meri zeest
ai naazish-e-khursheed tira gham hai meri jaan

अब तेरी ज़रूरत भी बहुत कम है मिरी जाँ
अब शौक़ का कुछ और ही आलम है मिरी जाँ

अब तज़्किरा-ए-ख़ंदा-ए-गुल बार है जी पर
जाँ वक़्फ़-ए-ग़म-ए-गिर्या-ए-शबनम है मिरी जाँ

रुख़ पर तिरे बिखरी हुई ये ज़ुल्फ़-ए-सियह-ताब
तस्वीर-ए-परेशानी-ए-आलम है मिरी जाँ

ये क्या कि तुझे भी है ज़माने से शिकायत
ये क्या कि तिरी आँख भी पुर-नम है मिरी जाँ

हम सादा-दिलों पर ये शब-ए-ग़म का तसल्लुत
मायूस न हो और कोई दम है मिरी जाँ

ये तेरी तवज्जोह का है एजाज़ कि मुझ से
हर शख़्स तिरे शहर का बरहम है मिरी जाँ

ऐ नुज़हत-ए-महताब तिरा ग़म है मिरी ज़ीस्त
ऐ नाज़िश-ए-ख़ुर्शीद तिरा ग़म है मिरी जाँ

- Habib Jalib
0 Likes

Gham Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Habib Jalib

As you were reading Shayari by Habib Jalib

Similar Writers

our suggestion based on Habib Jalib

Similar Moods

As you were reading Gham Shayari Shayari