jeevan mujh se main jeevan se sharmaata hoon | जीवन मुझ से मैं जीवन से शरमाता हूँ - Habib Jalib

jeevan mujh se main jeevan se sharmaata hoon
mujh se aage jaane waalo mein aata hoon

jin ki yaadon se raushan hain meri aankhen
dil kehta hai un ko bhi main yaad aata hoon

sur se saanson ka naata hai todoo kaise
tum jalte ho kyun jeeta hoon kyun gaata hoon

tum apne daaman mein sitaare baith kar taanko
aur main naye barn lafzon ko pahnaata hoon

jin khwaabon ko dekh ke main ne jeena seekha
un ke aage har daulat ko thukraata hoon

zahar ugalte hain jab mil kar duniya waale
meethe bolon ki waadi mein kho jaata hoon

jaalib mere sher samajh mein aa jaate hain
isee liye kam-rutba shaayar kahlaata hoon

जीवन मुझ से मैं जीवन से शरमाता हूँ
मुझ से आगे जाने वालो में आता हूँ

जिन की यादों से रौशन हैं मेरी आँखें
दिल कहता है उन को भी मैं याद आता हूँ

सुर से साँसों का नाता है तोड़ूँ कैसे
तुम जलते हो क्यूँ जीता हूँ क्यूँ गाता हूँ

तुम अपने दामन में सितारे बैठ कर टाँको
और मैं नए बरन लफ़्ज़ों को पहनाता हूँ

जिन ख़्वाबों को देख के मैं ने जीना सीखा
उन के आगे हर दौलत को ठुकराता हूँ

ज़हर उगलते हैं जब मिल कर दुनिया वाले
मीठे बोलों की वादी में खो जाता हूँ

'जालिब' मेरे शेर समझ में आ जाते हैं
इसी लिए कम-रुत्बा शाएर कहलाता हूँ

- Habib Jalib
0 Likes

Ehsaas Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Habib Jalib

As you were reading Shayari by Habib Jalib

Similar Writers

our suggestion based on Habib Jalib

Similar Moods

As you were reading Ehsaas Shayari Shayari