vo dekhne mujhe aana to chahta hoga | वो देखने मुझे आना तो चाहता होगा - Habib Jalib

vo dekhne mujhe aana to chahta hoga
magar zamaane ki baaton se dar gaya hoga

use tha shauq bahut mujh ko achha rakhne ka
ye shauq auron ko shaayad bura laga hoga

kabhi na hadd-e-adab se badhe the deeda o dil
vo mujh se kis liye kisi baat par khafa hoga

mujhe gumaan hai ye bhi yaqeen ki had tak
kisi se bhi na vo meri tarah mila hoga

kabhi kabhi to sitaaron ki chaanv mein vo bhi
mere khayal mein kuchh der jaagta hoga

vo us ka saada o maasoom vaalehaana-pan
kisi bhi jug mein koi devta bhi kya hoga

nahin vo aaya to jaalib gila na kar us ka
na-jaane kya use darpaish mas'ala hoga

वो देखने मुझे आना तो चाहता होगा
मगर ज़माने की बातों से डर गया होगा

उसे था शौक़ बहुत मुझ को अच्छा रखने का
ये शौक़ औरों को शायद बुरा लगा होगा

कभी न हद्द-ए-अदब से बढ़े थे दीदा ओ दिल
वो मुझ से किस लिए किसी बात पर ख़फ़ा होगा

मुझे गुमान है ये भी यक़ीन की हद तक
किसी से भी न वो मेरी तरह मिला होगा

कभी कभी तो सितारों की छाँव में वो भी
मिरे ख़याल में कुछ देर जागता होगा

वो उस का सादा ओ मासूम वालेहाना-पन
किसी भी जुग में कोई देवता भी क्या होगा

नहीं वो आया तो 'जालिब' गिला न कर उस का
न-जाने क्या उसे दरपेश मसअला होगा

- Habib Jalib
0 Likes

Wahshat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Habib Jalib

As you were reading Shayari by Habib Jalib

Similar Writers

our suggestion based on Habib Jalib

Similar Moods

As you were reading Wahshat Shayari Shayari