us ne jab hans ke namaskaar kiya | उस ने जब हँस के नमस्कार किया - Habib Jalib

us ne jab hans ke namaskaar kiya
mujh ko insaan se avtaar kiya

dasht-e-ghurbat mein dil-e-veeraan ne
yaad jamuna ko kai baar kiya

pyaar ki baat na poocho yaaro
ham ne kis kis se nahin pyaar kiya

kitni khwaabida tamannaon ko
us ki awaaz ne bedaar kiya

ham pujaari hain buton ke jaalib
ham ne ka'be mein bhi iqaar kiya

उस ने जब हँस के नमस्कार किया
मुझ को इंसान से अवतार किया

दश्त-ए-ग़ुर्बत में दिल-ए-वीराँ ने
याद जमुना को कई बार किया

प्यार की बात न पूछो यारो
हम ने किस किस से नहीं प्यार किया

कितनी ख़्वाबीदा तमन्नाओं को
उस की आवाज़ ने बेदार किया

हम पुजारी हैं बुतों के 'जालिब'
हम ने का'बे में भी इक़रार किया

- Habib Jalib
1 Like

Protest Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Habib Jalib

As you were reading Shayari by Habib Jalib

Similar Writers

our suggestion based on Habib Jalib

Similar Moods

As you were reading Protest Shayari Shayari