bate rahoge to apna yoonhi bahega lahu | बटे रहोगे तो अपना यूँही बहेगा लहू - Habib Jalib

bate rahoge to apna yoonhi bahega lahu
hue na ek to manzil na ban sakega lahu

ho kis ghamand mein ai lakht lakht deeda-varo
tumhein bhi qaatil-e-mehnat-kashaan kahega lahu

isee tarah se agar tum ana-parast rahe
khud apna raah-numa aap hi banega lahu

suno tumhaare garebaan bhi nahin mahfooz
daro tumhaara bhi ik din hisaab lega lahu

agar na ahad kiya ham ne ek hone ka
ghaneem sab ka yoonhi bechta rahega lahu

kabhi kabhi mere bacche bhi mujh se poochte hain
kahaan tak aur tu khushk apna hi karega lahu

sada kaha yahi main ne qareeb-tar hai vo door
ki jis mein koi hamaara na pee sakega lahu

बटे रहोगे तो अपना यूँही बहेगा लहू
हुए न एक तो मंज़िल न बन सकेगा लहू

हो किस घमंड में ऐ लख़्त लख़्त दीदा-वरो
तुम्हें भी क़ातिल-ए-मेहनत-कशाँ कहेगा लहू

इसी तरह से अगर तुम अना-परस्त रहे
ख़ुद अपना राह-नुमा आप ही बनेगा लहू

सुनो तुम्हारे गरेबान भी नहीं महफ़ूज़
डरो तुम्हारा भी इक दिन हिसाब लेगा लहू

अगर न अहद किया हम ने एक होने का
ग़नीम सब का यूँही बेचता रहेगा लहू

कभी कभी मिरे बच्चे भी मुझ से पूछते हैं
कहाँ तक और तू ख़ुश्क अपना ही करेगा लहू

सदा कहा यही मैं ने क़रीब-तर है वो दूर
कि जिस में कोई हमारा न पी सकेगा लहू

- Habib Jalib
1 Like

Ghamand Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Habib Jalib

As you were reading Shayari by Habib Jalib

Similar Writers

our suggestion based on Habib Jalib

Similar Moods

As you were reading Ghamand Shayari Shayari